भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। तेज गर्मी की वजह से शहर में उल्टी और दस्त के मरीज बढ़े हैं। अस्पतालों की ओपीडी में आम दिनों के मुकाबले तीन से चार गुना मरीज उल्टी-दस्त, बुखार और पेट दर्द के पहुंच रहे हैं। यह तो वे मरीज हैं, जो अस्पतालों में पहुंच रहे हैं। लगभग इतने ही मरीज ऐसे होते हैं जो अस्पताल नहीं जाते और खुद ही मेडिकल स्‍टोर से एंटीबायोटिक दवाएं खरीदकर खाते हैं। इसका बड़ा नुकसान यह हो रहा है कि उनके उल्‍टी-दस्त तो बंद हो जाते है, लेकिन पेट का संक्रमण ठीक नहीं होता और यह तकलीफ हफ्ते भर चलती है। बाद में डाक्टर के पास जाना पड़ता है।

एलएन मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डाक्टर आदर्श वाजपेयी ने बताया कि हर दिन एक या दो मरीज इस तरह के आ रहे हैं, जो पहले तो खुद दवाएं खरीद कर खाते हैं, लेकिन एंटीबायोटिक का पूरा डोज नहीं लेने की वजह से उनका पेट का संक्रमण ठीक नहीं होता है। बाद में ज्यादा पावर की एंटीबायोटिक देनी पड़ती है। उन्होंने बताया कि पानी की कमी से होने वाला दस्त पानी की आपूर्ति करने और कुछ साधारण दवाएं लेने से ही ठीक हो जाता है। इसके लिए एंटीबायोटिक दवाई लेने की जरूरत नहीं पड़ती।

गांधी मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन विभाग के सह प्राध्यापक डा. आरआर वर्डे ने कहा कि अगर हर दिन 3 से 4 लीटर पानी पिएं और बाहर खाली पेट नहीं निकलें तो लू और डिहाइड्रेशन की दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि मरोड़ के साथ पेट दर्द, दस्त और उल्टी भी हो रही हो तो डाक्टर को जरूर दिखाना चाहिए। शरीर में पानी की कमी होने पर कई अहम अंगों को नुकसान भी हो सकता है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close