भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी में भले ही मेट्रो आकार लेना शुरू कर चुकी हो लेकिन पहले रूट एम्स से लेकर करोंद तक के निर्माण में 16 मेट्रो स्टेशन बनाने की राह अभी तक आसान नहीं हो पाई है। इन स्टेशनों के लिए अब तक यह भी तय नहीं हुआ है कि जमीन अधिग्रहण कैसे होगा, जबकि इस रूट के 14 में से 10 स्टेशनों के लिए जमीन खाली नहीं हैं। किसी जमीन पर झुग्गियां तनी हैं तो किसी पर अतिक्रमण है। कहीं दुकानें बनी हैं। तो कहीं गौ-शाला, मंदिर या कब्रिस्तान। पुल बोगदा, मुख्य रेलवे स्टेशन तथा नादरा बस स्टेशन के पास बनने वाले तीन मेट्रो स्टेशनों की जमीन पर भी विवाद का साया है।

ग्लू फैक्ट्री और पुठ्ठा मिल का विवाद सुलझाने की तैयारी

इधर भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 के सामने से ईरानियों की अतिक्रमण वाली दुकानें हटाने के बाद अब ग्लू फैक्ट्री की जमीन और पुठ्ठा मिल का मामला सुलझाने की तैयारी की जा रही है। यहां पर मेट्रो का स्टेशन बनाया जाएगा। इसका मामला हाईकोर्ट में चल रहा है। पुरानी नर्मदा आईस फैक्ट्री की जमीन की लीज का विवाद है। इसके सुलझने के बाद ही ये स्टेशन बन सकेंगे। मेट्रो कापोर्रेशन के अधिकारियों के साथ जिला प्रशासन के अधिकारियों ने भी इन बाधाओं लेकिन अब तक कोई ठोस निर्णय नहीं लिया है।

इन मेट्रो स्टेशनों के लिए खाली करानी या लेनी होगी जमीन

मेट्रो स्टेशन की बाधाएं

हबीबगंज नाका - भेल की जमीन जिस पर दुर्गा नगर झुग्गीबस्ती तनी हैं

संगम सिनेमा - नगर निगम की पार्किंग संचालित है।

डीबी सिटी - डीबी मॉल के सामने खाली पड़ी जमीन, जिस पर दो झुग्गी और मंदिर बना है।

केंद्रीय विद्यालय - गवर्मेंट प्रेस के पीछे की जमीन, जिस पर गौशाला व अस्थाई दुकानें बनी हैं

सुभाष नगर - रेलवे लाइन के पास झुग्गियां व अस्थाई दुकानें।

पुल बोगदा - झुग्गी बस्ती तनी है और ग्लू फैक्ट्री बनी है।

भोपाल रेलवे स्टेशन (अंडरग्राउण्ड)- कच्ची दुकानें बनी हैं और अन्य जमीन पुरानी नर्मदा फैक्ट्री को लीज पर आवंटित है।

नादरा बस स्टेण्ड (अंडरग्राउण्ड) - पुट्ठा मिल की जमीन का विवाद चल रहा है। इसी पर स्टेशन बनेगा।

सिंधी कॉलोनी - पीएनटी (पोस्ट एंड ट्रेलीग्राफ) डिपार्टमेंट की 10 हजार वर्गफीट जगह ली जाएगी।

डीआईजी बंगला - डीआईजी चौराहे के पास नगर निगम के कचरा स्टेशन को शिफ्ट करना होगा।

Posted By: Lalit Katariya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस