भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। नगरीय निकाय चुनाव में महापौर और पार्षद पद के लिए कांग्रेस के प्रत्याशी पूरी ताकत के साथ प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। इसी बीच कांग्रेस ने सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के आवास पर

महापौर प्रत्याशी विभा पटेल, वरिष्ठ नेता सुरेश पचौरी सहित अन्य की मौजूदगी में संकल्प पत्र जारी करते हुए तमाम घोषणाएं की हैं। इसमें विभा पटेल और कांग्रेस ने शहवासियों से वादा किया है कि यदि वह उनको महापौर के रूप में चुनते हैं तो शहर को धूल मुक्त और नगर निगम को भूल मुक्त बनाएंगी। महापौर स्वास्थ्य योजना की शुरूआत की जाएगी। इसके तहत प्रत्येक वार्ड में स्वास्थ्य योजनाओं को पहुंचाया जाएगा। साथ ही हर घर का संपत्ति कर और पानी का बिल आधा करने के लिए संपत्ति कर एवं जल दर का युक्तियुक्तकरण कर जनता को राहत दिलाई जाएगी। पेयजल एवं सीवर की समस्या का योजनाबद्ध तरीके से हल किया जाएगा। 60 साल से अधिक उम्र के महिला एवं पुरुषों को संपत्ति कर में पांच प्रतिशत की छूट दी जाएगी। ईडब्ल्यूएस आवासों में 50 रुपये महीने पानी शुल्क लिया जाएगा। वहीं जल व्यवस्था के लिए बड़े तालाब, कोलार से पानी आपूर्ति व्यवस्था को नर्मदा जल की पाइप लाइन से जोड़कर प्रत्येक क्षेत्र में पर्याप्त पानी पहुंचाया जाएगा। इनके अलावा अन्य

घोषणाएं भी कांग्रेस ने अपने संकल्प पत्र में की हैं।

मेयर रोजगार योजना लाएंगे - इससे राजधानी के युवाओ को राजेगार मिल सकेगा। निजी कंपनियों के सहयोग से विधानसभा क्षेत्रों में रोजगार मेले लगाएंगे। नगर निगम में निर्माण, रखरखाव एवं सामग्री आपूर्ति में युवाओं को

प्राथमिकता देंगे। कालोनियों में बल्क वाटर कनेक्शन के स्थान पर व्यक्तिगत कनेक्शन देकर पानी के बिल का बोझ कम करेंगे। हाथ ठेला लगाने वालों को स्थाई जगह दी जाएगी।

हाथ ठेला लगाने दी जाएगी स्थाई जगह - शहर में विभिन्न स्थानों पर यहां-वहां हाथ ठेला लगाने वालों को स्थाई जगह उपलब्ध कराई जाएगी। सुविधाजनक स्थानों पर सब्जी मंडी एवं हाट बाजार विकसित किए जाएंगे। इसके लिए नई योजना बनाई जाएगी। वर्तमान में दुकानों के साइन बोर्डों का अधिक किराया लिया जा रहा है। इस किराए को कम किया जाएगा।

टूरिस्ट सिटी एवं फिल्म सिटी - भोपाल को देश की सबसे अच्छी टूरिस्ट एवं फिल्म सिटी बनाएंगे। क्योंकि यहां टूरिज्म एवं फिल्म सिटी की अपार संभावनाएं हैं। इससे सैलानियों की आमद बढ़ेगी और रोजगार के नए अवसर

बढ़ेंगे।

मेयर हेल्पलाइन- नगारिक अपनी समस्याओं के निराकरण के लिए विभिन्न विभागों में चक्कर काटते हैं। हम समस्याओं के निराकरण के लिए मेयर हेल्पलाइन शुरू करेंगे। साथ ही नगर निगम के कर्मचारियों की समस्याओं का निरकारण कर नियमितीकरण समय सीमा में किया जाएगा।

स्मार्ट एवं ग्रीन सिटी - भोपाल को पुन: आक्सीरिच ग्रीन सिटी बनाएंगे, अगले पांच साल में दस लाख पौधों का रोपण कर पुन: भोपाल को सुंदर, स्वच्छ व पर्यावरण युक्त कर वास्तिवक स्मार्ट सिटी बनाकर देश में नंबर वन महानगर बनाएंगे। सही मास्टर प्लान लाकर नगर निगम के माध्यम से लागू कराया जाएगा।

समुचित विकास - झुग्गी बस्ती को आवासीय क्षेत्र के रूप में लाते हुए वहां जरुरी बुनियादी सुविधाएं महुैया कराएंगे। पर्यावरणीयह सुधार करके स्वच्छ वातावरण देंगे। झुग्गी बस्तियों को जलप्रदाय व्यवस्था से जोड़ेंगे एवं जल निकासी की समुचित व्यवस्था करेंगे।

मुफ्त वाई-फाई सुविधा - सैलानियों, छात्रों, कामकाजी महिलाओं आदि की सुविधा के लिए सार्वजनिक स्थानों पर मुफ्त वाई - फाई सुविधा देंगे और राजधानी भोपाल को हाइटेक सिटी बनाएंगे। वहीं पब्लिक ट्रांसपोर्ट सुविधा

को अपग्रेड कर स्मार्ट बनाया जाएगा। इसमें छात्र- छात्राओं को यात्रा में विशेष छूट दी जाएगी।

शासन से रुपये वापस लेकर कराएंगे विकास - विक्रय पत्र संपादित कराते समय उप पंजीयक नगर निगम शुल्क लेता है। वह कर शासन के खाते में जाता है जो कि नगर निगम को हर वर्ष करोड़ों रुपये वापस नहीं मिलते हैं। इसे शासन से वापस लेकर इसको शहर के विकास कार्यों पर खर्च किया जाएगा। बारिश के दौरान जगह-जगह होने वाली जलभराव की समस्या का हर संभव समाधान किया जाएगा।

मनमाने सुविधा शुल्क पर लगाएंगे लगाम - कई रहवासी सोसायटियों द्वारा लिए जा रहे सुविधा शुल्क पर लगाम लगाकर महंगाई की मार से रहवासियों को राहत दी जाएगी। नक्शे से ज्यादा बनाए गए मकानों को कंपाउंड शुल्क को कम किया जाएगा।

मनमानी कार्रवाई को रोकेंगे - अवैध कालोनियों को वैध कर, नगर निगम को हस्तांतरण की कार्रवाई शीघ्रता से की जाएगी। गैरकानूनी तरीके से अतिक्रमण के नाम पर मकानों - दुकानों को तोड़ा जा रहा है उस पर अंकुश लगाया जाएगा। कामकाजी महिलाओं के लिए हास्टल बड़ी समस्या है। नगर निगम जनभागीदारी से कामकाजी महिलाओं के लिए हास्टल खोले जाएंग और महिला मार्केट भी बनाए जाएंगे। बच्चों के लिए पार्कों का निर्माण किया जाएगा।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close