भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। गंभीर मरीज भी बढ़ रहे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए हमीदिया अस्पताल में 400 बिस्तर की हाई डिपेंडेंसी यूनिट (एचडीयू) 15 अक्टूबर तक शुरू की जानी है। इसके अलावा 50 बिस्तर का अतिरिक्त आईसीयू सोमवार से शुरू किया जाना है। यह सुविधाएं शुरू करने के लिए अस्पताल में डॉक्टर व नर्स पर्याप्त नहीं हैं। लिहाजा, गांधी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन 159 डॉक्टर, 192 नर्स व चार अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की नियुक्ति करने जा रहा है। संविदा आधार पर 3 महीने के लिए यह भर्ती की जाएगी। इन पदों के लिए 21 सितंबर तक आवेदन बुलाए गए हैं। इन पदों के लिए वेतन राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की तरफ से दिया जाएगा। अब देखना यह है कि इसके लिए कितने उम्मीदवार सामने आते हैं। इसके आदेश स्वास्थ्य विभाग ने जारी कर दिए है।

इतने पदों के लिए होगी भर्ती

पदनाम - कुल पद

स्नातकोत्तर चिकित्सा अधिकारी - 15

चिकित्सा अधिकारी - 144

स्टाफ नर्स - 192

मंत्री बोले 21 सितंबर से शुरू करें 50 बिस्तर का आइसीयू

कोरोना मरीजों के इलाज की व्यवस्थाओं को लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने चिकित्सा शिक्षा व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा है कि हमीदिया में 50 बिस्तर का अतिरिक्त आईसीयू 21 सितंबर तक शुरू किया जाए। इसके अलावा टीबी अस्पताल में 100 बिस्तर का आईसीयू चरणबद्ध तरीके से शुरू करने के निर्देश भी उन्होंने कॉलेज के प्रभारी डीन डॉ. जितेन शुक्ला और हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आईडी चौरसिया को दिए हैं।

बता दें कि हमीदिया अस्पताल के आईसीयू में अभी वेंटिलेटर वाले 40 बिस्तर हैं। हफ्ते भर से सभी बिस्तर भरे हुए हैं, जिससे गंभीर मरीजों को यहां इलाज नहीं मिल पा रहा है। अतिरिक्त 50 बिस्तर का आईसीयू तैयार है। सिर्फ सक्शन पाइप लाइन बिछाने का काम होना है । मंत्री ने भोपाल में कोरोना का इलाज करने वाले डॉक्टर-नर्स को ट्रेनिंग देने की जिम्मेदारी भी गांधी मिलकर कॉलेज को सौंपी है। सरकारी डॉक्टरों के साथ निजी एलोपैथी और सरकारी व निजी आयुष डॉक्टरों को भी ट्रेनिंग दी जाएगी।

आयुष्मान योजना में पंजीकृत 24 हॉस्पिटलों में होगा कोरोना संक्रमण का इलाज

आयुष्मान योजना के अंतर्गत पंजीकृत अस्पताल अपने यहां 20 प्रतिशत बिस्तर आरक्षित किए गए थे। इसके चलते राजधानी के 24 हॉस्पिटलों में आयुष्मान कार्डधारी व्यक्तियों के कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए व्यवस्थाएं चालू हो जाएंगी। वर्तमान में 12 से अधिक हॉस्पिटल आयुष्मान योजना के अंतर्गत पंजीकृत लोगों के इलाज के लिए उपलब्ध है। 17 सितम्बर से अन्य 12 में भी इलाज शुरू हो जाएगा। बता दें कि इन सभी हॉस्पिटलों में 300 से अधिक ऑक्सीजन बेड उपलब्ध है। आईसीयू के साथ 54 वेंटीलेटर भी अतिरिक्त रूप से उपलब्ध रहेंगे। 18 वेंटीलेटर आईसीयू के बिना भी उपलब्ध है और 50 बेड बिना ऑक्सीजन के साथ भी कोरोना मरीजों के इलाज के लिए जिले में उपलब्ध होंगे। कोई भी आयुष्मान कार्ड धारी इन अस्पतालों में जाकर मुफ्त में अपना इलाज करवा सकता है।

अच्छी खबर, कम हो रही है सक्रिय संक्रमितों की संख्या

कोरोना को लेकर अच्छी खबर है। शहर में भले ही मरीजों की संख्या बढते जा रही है लेकिन ठीक होने वालों की संख्या भी शहर में ज्यादा है। इसके चलते राजधानी में संक्रमित मरीजों की संख्या कम हो गई है। यही नहीं एक्टिव मरीजों संख्या में भोपाल अब तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। इंदौर में सबसे ज्यादा 5298 मरीज एक्टिव हैं वहीं दूसरे नंबर ग्वालियर है जहां 2148 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं। वहीं भोपाल में करीब 2000 मरीज ही सक्रिय संक्रमित है। शहर में अब करीब 14 हजार संक्रमित मरीज है तो 12 हजार कोरोना को मात दे चुके है।

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस