- तीन साल से किसी को नहीं मिला संत हिरदाराम गौरव सम्मान

संत हिरदाराम नगर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। सिंधी साहित्य, कला और संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से गठित मध्यप्रदेश सिंधी साहित्य अकादमी की गतिविधियां पांच माह से ठप पड़ी हैं। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनते ही निदेशक की नियुक्ति निरस्त कर दी गई थी।

नवंबर 2019 में संस्कृति विभाग ने बैरागढ़ के नरेश गिदवानी को अकादमी का निदेशक नियुक्त किया था। गिदवानी ने अपने कार्यकाल में सिंधी साहित्य को बढ़ावा देने के लिए वार्षिक कैलेंडर तैयार किया था। प्रदेश के विभिन्न शहरों में कार्यक्रम हुए। अकादमी ने संत हिरदाराम गौरव सम्मान, स्व. कृष्ण खटवानी एवं स्व. खियलदास बेगवानी स्मृति साहित्य सम्मान देने की प्रक्रिया भी शुरू की थी, लेकिन इसी बीच गिदवानी की नियुक्ति निरस्त कर दी गई। अकादमी की साहित्य पत्रिका सिंधु मशाल का प्रकाशन भी इस साल नहीं हो सका है। वर्तमान में अकादमी के निदेशक का प्रभार अस्थाई रूप से एचआर अहिरवार के पास है।

- पांच माह में केवल एक आयोजन

अकादमी ने पिछले पांच माह में केवल एक ऑनलाइन कार्यक्रम किया है। कोरोना संकट के कारण सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक है। बाकी अकादमियां ऑनलाइन कार्यक्रम कर रही हैं, लेकिन सिंधी अकादमी की गतिविधियां ठप हैं। संत हिरदाराम गौरव पुरस्कार तीन साल से किसी साहित्यकार को नहीं दिया गया है। गिदवानी के मुताबिक उनके कार्यकाल में तीनों प्रतिष्ठापूर्ण पुरस्कार देने की प्रक्रिया शुरू की गई थी।

- कई साहित्यकार निदेशक बनने के इच्छुक

आमतौर पर सिंधी अकादमी में सिंधी साहित्य क्षेत्र से जुड़े किसी व्यक्ति को ही निदेशक बनाया जाता है, लेकिन यह परंपरा टूट चुकी है, यही कारण है कि अब कई ऐसे लोग भी निदेशक पद की दौड़ में हैं, जिनका साहित्य क्षेत्र से कोई लेना-देना नहीं है। इस पद के लिए पूर्व निदेशक नरेश गिदवानी, कमल प्रेमचंदानी, कविता इसरानी, राकेश शेवानी, गुलाब जेठानी, मनोज कृपलानी के नाम चर्चा में हैं। इंदौर एवं उज्जैन के कुछ साहित्यकार भी निदेशक बनने का प्रयास कर रहे हैं।

----------

सिंधी साहित्य अकादमी को संत हिरदाराम गौरव सम्मान एवं वरिष्ठ साहित्यकारों की स्मृति में दिए जाने वाले पुरस्कार तत्काल प्रदान करने चाहिए। सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक उचित है पर प्रतिष्ठापूर्ण आयोजन सादगी से किए जा सकते हैं। मैंने इस संबंध में अकादमी के प्रभारी निदेशक को पत्र भी लिखा है।

- नरेश गिदवानी, पूर्व निदेशक मप्र सिंधी साहित्य अकादमी

--------------------

सिंधी साहित्य अकादमी का निदेशक किसी ऐसे व्यक्ति को बनाना चाहिए जिसे सिंधी भाषा और साहित्य का पूरा ज्ञान हो। राजनीतिक नियुक्ति नहीं होनी चाहिए। मैंने इस संबंध में मुख्यमंत्री एवं प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। अकादमी की नियमित गतिविधियां ऑनलाइन शुरू की जा सकती हैं।

- मनोज कृपलानी, सिंधी साहित्यकार एवं गायक

फोटो- नरेश गिदवानी

- मनोज कृपलानी

------------------------

------------------------

कपड़ा व्यापारी संघ की कार्यसमिति तय करेगी चुनाव कराए जाएं या नहीं

- वर्तमान पदाधिकारियों का कार्यकाल पूरा, बैठक में पेश किया जाएगा कार्यकाल बढ़ाने का प्रस्ताव

संत हिरदाराम नगर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना संकट के कारण बैरागढ़ की सबसे बड़ी व्यापारिक संस्था कपड़ा व्यापारी संघ के चुनाव तय समय पर होना मुश्किल है। संघ की कार्यसमिति की अगले माह प्रस्तावित बैठक में चुनाव पर चर्चा की जाएगी।

संघ के वर्तमान पदाधिकारियों का कार्यकाल पूरा हो चुका है। परंपरा के अनुसार सिंतबर माह में साधारण सभा होती है, इसमें सदस्य चुनाव की तारीख तय करते हैं। कोरोना संकट के कारण इस बार संघ की साधारण सभा नहीं हो सकी है। संघ के अध्यक्ष कन्हैया इसरानी के अनुसार अगले माह कार्यसमिति की बैठक होगी। बैठक में वर्तमान पदाधिकारियों का कार्यकाल बढ़ाने का प्रस्ताव पेश किया जाएगा। साधारण सदस्यों से भी सहमति ली जाएगी। इसरानी के मुताबिक हम चुनाव के लिए तैयार हैं, लेकिन जिला प्रशासन की गाइडलाइन को देखते हुए निर्धारित समय पर चुनाव होना मुश्किल है, इसलिए कार्यकाल बढ़ाया जा सकता है।

- अगले साल तक बनेगी भव्य धर्मशाला

कपड़ा संघ ने सीहोर नाका क्षेत्र में धर्मशाला का निर्माण कार्य भी शुरू किया है। इसरानी के मुताबिक सन 2021 के अंत तक भव्य धर्मशाला तैयार हो जाएगी। लंबे लॉकडाउन के कारण धर्मशाला का काम समय पर प्रारंभ नहीं हो सका था। हाल ही में भूमिपूजन कर काम शुरू कराया गया है।

--------------------

---------------------

कोरोना से बुजुर्ग समाजसेवी का निधन, पंचायत ने श्रद्धांजलि दी

संत हिरदाराम नगर। कोरोना संक्रमण से बैरागढ़ के एक बुजुर्ग समाजसेवी का निधन हो गया। पूज्य सिंधी पंचायत के महासचिव माधु चांदवानी के अनुसार 78 वर्षीय कन्हैयालाल पुरस्वानी का एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। सोमवार को उनका निधन हो गया। स्व. पुरस्वानी लंबे समय से आरोग्य केंद्र में सेवाएं दे रहे थे। पंचायत पदाधिकारियों ने उनके निधन पर दुख प्रकट करते हुए श्रद्घांजलि अर्पित की है।

फोटो- कन्हैयालाल पुरस्वानी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020