- भोपाल वन मंडल की समरधा रेंज का मामला

- समरधा गांव के पहले कट रहे जंगल

भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के आसपास वन्यक्षेत्र में लकड़ियों की अवैध कटाई हो रही है और जिम्मेदारों का इस ओर ध्यान ही नहीं है। यह कटाई भोपाल वन मंडल की समरधा रेंज में समरधा गांव के पहले चल रही है। इसकी शिकायत ग्रामीणों और वन्यप्रेमियों ने डीएफओ व रेंजर को की है। यह जंगल दो तरफ से अतिक्रमण की चपेट में भी आ रहा है। समरधा रेंज में प्रवेश करने से पहले पडरिया, हरपालपुर गांव के पहले राजस्व व वन विभाग की जमीन पर अवैध कब्जे किए जा रहे हैं। इसी क्षेत्र में रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के लिए जमीन आवंटित की है। उधर, समरधा गांव के आसपास भी जंगल की जमीन हड़पने की कोशिशें हो रही हैं।

जिस क्षेत्र में कटाई की जा रही है, वह वर्षों से बाघों का प्राकृतिक गलियारा रहा है। पेड़ों की कटाई से जंगल का घनत्व कम होगा, फलतः बाघों के रास्ता भटकने का खतरा है। साथ ही शिकार की घटनाएं भी बढ़ सकती हैं।

सागौन के बेशकीमती पेड़ काट रहे

जिस क्षेत्र में कटाई हो रही है, वहां सागौन का जंगल है। सागौन की लकड़ी मजबूत और टिकाऊ होने की वजह से फर्नीचर, दरवाजे आदि बनाने में इस्तेमाल होती है। इस वजह से इसकी बाजार में बहुत मांग है।

प्रतिबंधित क्षेत्र होने के बावजूद वाहनों का प्रवेश

इस क्षेत्र में गांव वालों को छोड़कर दूसरे वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित है। इसके बावजूद बाहरी वाहन यहां घुस जाते हैं। कुछ माह पूर्व ही पुरानी लकड़ी एकत्रित करने के बहाने कुछ बदमाश मिनी ट्रक लेकर जंगल में घुसे थे और बेशकीमती लकड़ी भरकर निकल गए थे।

वन्यकर्मियों से साठगांठ

समरधा रेंज में नाकेदार व डिप्टी रेंजरों की तैनाती है। अन्य वनकर्मी भी गश्त करते हैं। इसके बावजूद कटाई हो रही है। सूत्रों की मानें तो लकड़ी तस्करों ने कुछ नाकेदार व डिप्टी रेंजरों से सांठगांठ कर ली है, जो कटाई के बदले उन्हें लाभ पहुंचाते हैं। वन्यप्राणी प्रेमी राशिद नूर खान ने सालों से एक जगह पदस्थ नाकेदार, डिप्टी रेंजरों को हटाने की मांग की है।

---------------

पेड़ों की कटाई की शिकायतें मिली हैं। स्थानीय वन्यकर्मियों को जांच के निर्देश दिए हैं। कटाई करने वालों को चि-ति कर कार्रवाई करेंगे।

- एके झंवर, रेंजर, समरधा रेंज, भोपाल वन मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस