भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। इंदौर में विगत दिनों हुई भू-माफिया के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई के बाद अब भोपाल में भी जल्द भू-माफिया के खिलाफ अभियान शुरू किया जाएगा। इसके लिए सभी तहसील व सर्किल स्तर पर भू-माफिया की सूची तैयार हो रही है। वहीं थानेवार माफिया को चिन्हित किया जा रहा है। यह कार्रवाई समाज विरोधी गतिविधियों में लगे लोगों के लिए है। आम नागरिकों को इस मुहिम से सुरक्षित माहौल मिलेगा।

इधर, बताया जा रहा है कि भू-माफिया के तौर पर जो सूची तैयार की जा रही है, उसमें अधिकांश वे हैं, जिन पर विगत दिनों कार्रवाई की जा चुकी है। इसके अलावा नए भू-माफिया जिला प्रशासन चिह्नित नहीं कर पा रहा है। यही कारण है कि पिछले एक सप्ताह में मुख्यमंत्री के निर्देश के बावजूद भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिले के विभिन्न क्षेत्रों जैसे नीलबड़, रातीबड़, जहांगीराबाद, एमपी नगर, बैरागढ़ आदि में सक्रिय माफिया को चिन्हित कर तुरंत सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। शहर में अवैध कॉलोनी काटने वाले लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए, लेकिन जिले में सक्रिय शराब, जुआ-सट्टा, देह व्यापार, पार्किंग, ट्रांसपोर्ट, अवैध कालोनाइजर्स, अवैध कब्जे, नकली दूध उत्पाद इत्यादि माफिया के विरुद्ध धरपकड़ कार्रवाई अब तक बंद थी। कलेक्टर अविनाश लवानिया का कहना है कि चिन्हित किए गए माफिया की संपत्ति की जानकारी का रिकार्ड भी निकालें। माफिया की संपत्ति जब्त कर राजसात करें, ताकि इनके हौसले ध्वस्त हों।

52 भू-माफिया पकड़ से दूर

भोपाल में सरकारी जमीन, तालाब और वन्‍यभूमि पर भी भू-माफिया कब्‍जे कर रहे हैं। दो महीने में भू-माफिया के खिलाफ पांच से अधिक थानों में 16 केस दर्ज किए गए हैं। इनमें से 67 से अधिक नामजद हैं। पुलिस प्रशासन की सुस्ती के कारण आज 52 भू-माफिया पकड़ से बाहर हैं। बता दें कि भू-माफिया के नाम पर घनश्याम सिंह राजपूत ने बैरागढ़ चीचली स्थित आकांक्षा गृह निर्माण सोसायटी की 5.55 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा कर रखा था।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local