Bhopal News:भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपाल सहकारी दुग्ध संघ के गैराज प्रभारी आशीष पटेल व ड्राइवर नानू बुधवार को बयान दर्ज कराने लोकायुक्त कार्यालय नहीं पहुंचे। इसकी जानकारी दुग्ध महासंघ के एमडी शमीम उद्दीन को दे दी है। संघ के सीईओ आरपीएस तिवारी को लोकायुक्त ने मंगलवार को तलब किया था, लेकिन वे पूछताछ में सवालों के जवाब नहीं दे पाए। उन्होंने लिखित में जवाब पेश करने के लिए 25 अक्टूबर तक का समय मांगा है। लोकायुक्त ने 30 सितंबर को गैराज प्रभारी व ड्राइवर पर प्रकरण दर्ज किया था। इन पर लंबी दूरी तक टैंकर चलाने के लिए 15 से 20 हजार रुपये रिश्वत लेने के आरोप हैं। यह लंबे समय से चल रहा था, सूत्रों के मुताबिक रिश्वत की राशि कुछ अधिकारियों में वितरित होती थी। इस पूरे मामले की लोकायुक्त पुलिस जांच कर रही है।

लोकायुक्त ने सीईओ से पूछे इस तरह सवाल

- टैंकर चलाने की पूरी व्यवस्था क्या है, संबंधित मार्ग पर कौन सा टैंकर चलेगा यह कौन तय करते हैं, समीक्षा में कितनी बार खामियां मिलीं, क्या कार्रवाई की। कितना दूध लेकर आते हैं। भुगतान की क्या व्यवस्था है।

- आशीष को गैराज से हटाने के बाद दोबारा जिम्मेदारी क्यों दी, इसकी क्या वजह थी जैसे कई सवाल पूछे हैं।

सवाल- बयान दर्ज नहीं तो तबादला क्यों?

लोकायुक्त आशीष के बयान दर्ज करती उसके पहले वरिष्ठ अधिकारियों ने उसका भोपाल से उज्जैन तबादला कर दिया। घर जाकर रिलीव आर्डर भी थमा दिया। अब उसे पेश नहीं करवाया जा रहा है। ड्राइवर का गायब होना भी साजिश का हिस्सा बताया जा रहा है।

वर्जन

आशीष व नानू जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। यह जानकारी एमडी को दे दी है। सीईओ भी जवाब नहीं दे पाए, उन्होंने समय मांगा है। इस मामले में जो भी शामिल होंगे, उन्हें जांच के दायरे में लगाएंगे।

- वीके सिंह, थाना प्रभारी लोकायुक्त पुलिस भोपाल

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local