भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। ग्राम भैंसाखेड़ी स्थित पं. दीनदयाल उपाध्याय कृषि उपज मंडी में व्यापारियों के तमाम प्रयास के बावजूद अभी तक धर्मकांटा नहीं लग सका है। किसानों को छोटे इलेक्ट्रानिक कांटे पर ही फसल तुलवानी पड़ रही है। अनाज व्यापारी संघ धर्मकांटा लगाने की मांग को लेकर मंडी समिति से मुलाकात करेगा।

मंडी में अपेक्षित कारोबार एवं नीलामी नहीं होने के कारण अधिकांश व्यापारियों ने गोदाम बंद कर दिए हैं। किसानों की रूचि भी कम हो गई है। व्यापारी संघ की मंडी समिति के साथ पिछले दिनों हुई बैठक में व्यापारियों ने साफ कहा कि मंडी में किसानों और व्यापारियों के लिए जरूरी सुविधाएं जुटाई जाएं तो मंडी में कारोबार बढ़ सकता है।

बैठक के बाद किसान विश्रामगृह का निर्माण एवं धर्मकांटा स्थापित करने का निर्णय लिया गया। विश्रामगृह का निर्माण शुरू किया गया लेकिन काम अधूरा रह गया। धर्मकांटा अभी तक नहीं लग सका है। अनाज व्यापारी संघ के अध्यक्ष जगदीश आसवानी का कहना है कि इस माह के अंत तक सोयाबीन व मक्का की फसल मंडी में आना शुरू हो जाएगी। हम नीलामी में भाग लेंगे लेकिन मंडी समिति को भी मंडी में सुविधाएं बढ़ाना चाहिए।

मंडी में खाली जगह का उपयोग नहीं

बैरागढ़ के निकटवर्ती ग्राम फंदा, खजूरी, ईंटखेड़ी आदि ग्रामों के किसान फसल बेचने अन्य मंडियों में आने लगी हैं, इस कारण भैंसाखड़ी मंडी का पूरा उपयोग नहीं हो पा रहा है। मंडी में काफी जगह खाली पड़ी है। यदि किसानों को प्रोत्साहित किया जाए तो यहां नए गोदाम भी खुल सकते हैं। वर्तमान में बरसों पहले बने गोदाम ही खाली पड़े हैं। संघ के मुख्य सलाहकार नरेश पारदासानी का कहना है कि मंडी समिति को किसानों को प्रेरित करना चाहिए। हम अपनी तरफ से हरसंभव सहयोग करने को तैयार हैं। पारदासानी ने कहा कि हम किसानों को फसल का वाजिब मूल्य देंगे।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close