Bhopal News :भोपाल, (नवदुनिया प्रतिनिधि)। रात के लगभग 11.43 मिनट और लगभग 80 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ते हुए रेत से भरा हुआ डंपर। यह हम शहर की किसी मुख्य सड़क की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि कलियासोत तिराहे से साक्षी ढाबे की ओर जाने वाली सड़क की बात कर रहे है। बाघ परिभ्रमण क्षेत्र होने के बाद भी इस क्षेत्र में बड़े वाहनों का प्रवेश धड़ल्ले से जारी है। इन बड़े वाहनों पर न तो जिला प्रशासन रोक लगा पा रहा है और न ही पुलिस इनके खिलाफ कोई कार्रवाई कर पा रही है। वहीं बड़े वाहन चालक वनकर्मियों पर भी हमला करने से नहीं चूक रहे। गत दिवस बुल मदर फार्म के पास स्थित वन विभाग के बैरियर को भी ट्रैक्टर ट्राली चालक ने तोड़ दिया है।

इन भारी वाहनों के कारण जंगलों की आबोहवा तो प्रदूषित हो ही रही है। वन में रहने वाले जीवों के लिए भी खतरा पैदा हो गया है। भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगवाने के लिए पर्यावरण कार्यकर्ता राशिद नूर खान ने राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण सहित अन्य विभागों में शिकायतें की हैं, लेकिन भारी वाहनों का प्रवेश अब भी जारी है।

भारी वाहन ने तोड़ दिया बैरियर

ट्रैक्टर ट्राली की टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि बैरियर दूसरी ओर मुड़ गया है। सूत्रों के अनुसार रात के समय एक ट्रैक्टर ट्राली चालक ने बैरियर को तोड़ दिया था। वनकर्मियों ने जब ट्राली को रोकना चाहा, तो कुछ रसूखदार उसे जबरदस्ती छुड़वा कर ले गए। इसके बाद से ही बैरियर के न होने का फायदा उठाकर डम्पर चालक रात में भी पूरी रफ्तार से वाहनों को दौड़ा रहे हैं। भारी वाहनों के कारण जंगल में रात के समय विचरण करने वाले छोटे जीव जैसे खरगोश, लोमड़ी और सियार जैसे जीवों को खतरा पैदा हो गया है।

वनकर्मियों पर भी हमला करने से नहीं चूकते

क्षेत्र में पदस्थ एक वनकर्मी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वाहन चालक हम पर हमला करने से भी नहीं चूकते। ट्रैक्टर ट्राली चालक को जब रोकने का प्रयास किया गया, तो उसने वाहन की गति तेज कर बैरियर को ही उड़ा दिया। वनकर्मियों ने मुश्किल से भागकर अपनी जान बचाई।

प्रशासन और पुलिस काे देंगे जानकारी

रात के समय इस क्षेत्र में बड़े वाहनों का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित है। दिन के समय इनकी गति समय भी 20 किमी प्रति घंटा से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इन पर कार्रवाई को लेकर जिला प्रशासन और पुलिस को लिखेंगे। टूटे हुए बैरियर को एक दो दिन में सही करवा लिया जाएगा।

- आलोक पाठक, डीएफओ, भोपाल

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close