भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। सरोजिनी नायडू शासकीय कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यलय (नूतन कॉलेज) में सुबह से ही चहल-पहल थी। छात्राओं से लेकर प्रोफेसर, प्राचार्य सभी सुबह 10 बजे कॉलेज पहुंच गए। कॉलेज की एनसीसी की 50 छात्राएं भी पहुंची थीं। उन्हें प्राचार्य ने दोपहर 12 बजे से कॉलेज परिसर में मंत्री के स्वागत के लिए खड़ा कर दिया। था। मंत्री को कॉलेज के कार्यक्रम में तीन बजे पहुंचना था, लेकिन वे साढ़े तीन बजे पहुंचे। इसके चलते छात्राएं भूखी-प्यासी साढ़े तीन घंटे तक मुख्य अतिथियों के इंतजार में धूप में खड़ी रहीं। इस दौरान उन्हें न तो पानी मिला और न ही खाने के लिए कुछ दिया गया।

मंगलवार को कॉलेज के नए भवन, कैंटीन और स्वशासी प्रकोष्ठ के लोकार्पण और भूमिपूजन कार्यक्रम में यह नजारा देखने को मिला। कार्यक्रम के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन भी नहीं किया गया, जबकि कार्यक्रम से एक दिन पहले सोमवार को आयोजन समिति के तीन सदस्यों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। इसके बावजूद कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, जल संसाधन एवं मत्स्य पालन विभाग मंत्री तुलसीराम सिलावट सहित कॉलेज की प्राचार्य डॉ. प्रतिभा सिंह सहित कई प्रोफेसर बिना मास्क के नजर आए। इस दौरान सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन भी नहीं किया गया। इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस कॉलेज में नए पाठ्यक्रम शुरू किए जाएंगे। एनसीसी का पाठ्यक्रम बनाएं और स्ववित्तीय पाठ्यक्रम के रूप में प्रारंभ करें। वहीं मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि संस्कृति की रक्षा हमारी मातृशक्ति करती है, बेटियां हमारे मप्र की ऊर्जा हैं और वे हमारे प्रदेश को आगे ले जाएंगी। कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मंत्री महंेद्र सिंह सिसोदिया नहीं पहुंचें। बता दें कि सोमवार को आयोजन समिति वर्ल्ड बैंक की दो प्रोफेसर और एक कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इसके बावजूद कार्यक्रम में काफी अच्छी खासी भीड़ नजर आई। रूसा के सहयोग से कॉलेज में भवन का निर्माण किया जाएगा।

दोनों मंत्री ने कैंटीन का अवलोकन किया

भूमिपूजन के बाद दोनों मंत्री डॉ. मोहन यादव और तुलसीराम सिलावट ने कैंटीन का अवलोकन किया और खाने की टेबल पर बैठकर बातचीत भी किया। इस दौरान मंत्री ने दिव्यांग छात्राओं के प्लेसमेंट होने पर उन्हें सम्मानित किया गया। ये छात्राएं बैंक में पीओ सहित अन्य पद पर नियुक्त हुई हैं।

मंत्री ने प्राचार्य की मांग से किया इन्कार

कार्यक्रम के बाद प्राचार्य ने उच्च शिक्षा मंत्री से ए प्लस ग्रेड लाने के लिए 20 करोड़ स्र्पये की मांग की। इस पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि ग्रेड तो मैं नहीं दे सकता, यह तो नैक की जिम्मेदारी है। आप नए-नए कोर्स शुरू करने की मांग कीजिए। पैसों के लिए नियमानुसार प्रपोजल शासन स्तर पर बनाकर भेजिये।

वर्जन

- एनसीसी की छात्राओं को मंत्री के स्वागत के लिए ढाई बजे से लाइनअप होने का आदेश दिया था। छात्राएं 12 बजे से ही तैयारी कर रही थी। इस कारण उन्हें अधिक देर तक खड़ा होना पड़ा होगा।

डॉ. प्रतिभा सिंह, प्राचार्य नूतन कॉलेज

-

Posted By: Lalit Katariya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags