भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना की भयावह त्रासदी में दिवंगत कई लोगों की अस्थियां सुभाष नगर विश्राम घाट परिसर, लॉकर में विसर्जन की आस में रखी हैं। विश्राम घाट कमेटी ने विधि-विधान से इन अस्थियों को 26 सितंबर को पवित्र नर्मदा नदी में विसर्जित करेगी। लगभग 400 लोगों की अस्थियों को एक विशाल कलश में एकत्रित किया जा रहा है। इसके बाद अस्थि कलश को ट्रक में भोपाल से होशंगाबाद ले जाया जाएगा।

विश्राम घाट कमेटी के प्रबंधक शोभराज सुखवानी ने बताया कि विश्राम घाट कमेटी ट्रस्ट एवं संस्कार सेवा समिति ने संयुक्त रूप से अस्थियों के विसर्जन का फैसला किया है। इसी तरह छह वर्षों से जारी पिंड दान, तर्पण एवं भागवत कथा का आयोजन इस वर्ष भी किया जा रहा है। श्रीमद्भागवत कथा 30 सितंबर से छह अक्टूबर तक होगी। ट्रस्ट के तत्वावधान में पिंड दान, तर्पण आदि के कार्य कराए जा रहे हैं।

कमेटी में आकर नाम दर्ज कराएं

प्रबंधक सुखवानी ने बताया कि जो भी व्यक्ति अपने दिवंगत परिजन का तर्पण कराना चाहता है, उसे तय तर्पण तिथि से एक दिन पहले आकर अपना नाम लिखवाना होगा। श्राद्ध के संस्कार से संबंधित तमाम वस्तुएं ट्रस्ट मुहैया करा रहा है। अस्थि कलश में गत वर्ष करोना से दिवंगत हुए लोगों की अस्थियों का भी संचय किया गया है।

इस तरह जमा हुई अस्थियां

प्रबंधक शोभराज सुखवानी ने बताया कि कोरोना काल के दौरान या अन्य कारण से जिनकी मृत्यु हुई थी। उनके अंतिम संस्कार के बाद उनकी अस्थियां विश्राम घाट में रखी हैं। लॉकडाउन होने और कई अज्ञात शव होने की वजह से अस्थियां जाने-अनजाने और कुछ विशेष कारणों से विसर्जित नहीं की जा सकी हैं। इन पर दावा करने भी कोई नहीं आया है। ऐसी स्थिति में समिति इन इकत्रित हुई अस्थियों का विधि विधान से विसर्जन करने जा रही है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local