Bhopal News : बृजेंद्र वर्मा। भोपाल। कोरोना काल और लॉकडाउन के कारण हर आम और खास परेशान हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत गरीबों को हो रही है, जो रोजी-रोटी छिनने के साथ खाने को भी मोहताज हैं। ऐसे लोगों के लिए राजधानी की महिलाएं अन्नपूर्णा बनकर आई हैं। शहर के भेल की सकारात्मक सोच संस्था की महिलाओं ने कोरोना काल में अन्न बैंक शुरू किया है। यह अन्न बैंक कल्पना नगर अन्नपूर्णा पार्क के पास एक घर में संचालित हो रहा है। लॉकडाउन में ये महिलाएं स्वयं के खर्चे पर रोजाना 100 लोगों का खाना बना रही हैं।

अन्न बैंक चलाने वाली 80 फीसद महिलाएं गृहिणी हैं। वहीं 20 फीसद महिलाएं ऐसी हैं, जो शासकीय व निजी कंपनियों में काम करती हैं। रोजाना सुबह सात से 11 बजे तक खाना बनकर तैयार हो जाता है। संस्था से जुड़ी 300 महिलाएं ही अलग-अलग दिन एक-एक कर अपने खर्चे पर किराने की दुकान से खाद्य सामग्री खरीदती हैं और अन्न बैंक में जमा करती हैं।

इससे ऐसे जरूरतमंद लोगों के लिए खाना बनता है, जो फुटपाथ पर जीवन-यापन करते हैं। समय मिलने पर कभी-कभार तो महिलाएं स्वयं जरूरतमंद लोगों को खाना बनाकर वितरित करती हैं तो कई बार ऐसी संस्थाओं से जुड़े लोगों को 100 लोगों के लिए खाना बना कर दे देती हैं, जो जिम्मेदारी से जरूरतमंद लोगों को खाना बांटने का काम करते हैं। उधर, इस अन्न बैंक में लोग आटा, दाल, चावल, तेल, शक्कर, सब्जियां सहित अन्य खाद्य सामग्री दान में देकर जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन भी बनवा सकते हैं। वहीं यदि कोई जरूरतमंद इनके पास आ जाते हैं तो उन्हें बाकायदा थाली में परोसकर भोजन कराया जाता है।

खाने में यह बनाती हैं महिलाएं

रोजाना दाल, चावल, एक हरी सब्जी व रोटियां बनती हैं। हर दिन सब्जी में बदलाव होता है। एक पैकेट में छह रोटी, दाल, चावल, सब्जी रखी जाती है।

ऐसे आया अन्न बैंक शुरू करने का विचार

सकारात्मक सोच संस्था की प्रमुख किरण शर्मा बताती हैं कि कोरोना काल को चार महीने से ज्यादा समय हो गया। इस दौरान शुरुआत में लॉकडाउन हुआ। फिर अनलॉक 1 व 2 हुआ। अब शहर कोरोना वायरस की चेन तोड़ने के लिए 10 दिन के लिए लॉक है। ऐसे में कई ऐसे परिवार हैं, जिन्हें भोजन नहीं मिल रहा। होटल व रेस्टोरेंट बंद होने से फुटपाथ पर जीवन व्यतीत करने वालों को भोजन नहीं मिल पा रहा। ऐसे ही जरूरमंद लोगों को भूखा सोते हुए देखा, इसलिए हाल में अन्न बैंक शुरू करने का एक छोटा सा प्रयास किया है। ज्यादा नहीं पर शुरुआत में कम से कम 100 जरूरतमंद लोगों को दिन के समय खाना बनाकर खिला रहे हैं। सम्पन्न लोग अन्न बैंक में खाद्य सामग्री जमा कर सकते हैं।

खाने के पैकेट के साथ मास्क भी देती हैं

संस्था से जुड़ी उर्मिला चौधरी, सुनीता कांडा ने बताया कि खाने के पैकेट के साथ कपड़े का खुद सिलकर तैयार किया गया भी रखते हैं। इससे जरूरतमंद लोग कोरोना से बचाव के लिए मास्क का इस्तेमाल कर सकें। ज्यादा से ज्यादा लोगों को कोरोना काल में मास्क उपलब्ध कराने के लिए महिलाएं अपने-अपने घरों पर मास्क सिलकर आसपास के स्लम एरिया में वितरित भी कर रही हैं। सुरक्षित शारिरिक दूरी बनाए रखने के लिए भी लोगों को समझा रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020