Bhopal News: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। अमूमन आपने बेटा-बेटी का जन्म होने पर किन्नरों को घरों पर नाचने व गाते देखा होगा, लेकिन शहर के अन्नापूर्णा कॉम्प्लेक्स निवासी दीपक सिंह ठाकुर और उनकी पत्नी आशा ने बेटा होने की खुशी में शहर के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले 200 किन्नरों को आमंत्रित किया। उनकी पसंद के पकवान बनवाए और किन्नर गुरुओं का शॉल-श्रीफल से सम्मानित किया। किन्नरों ने कार्यक्रम में ढोलक बजा कर भजन आए। कार्यक्रम में आए कलाकारों ने कव्वाली की प्रस्तुति दी। गाना-बजाना करके दपंती के सवा महीने के बेटे खुशांक को आशीर्वाद व दुआएं दीं। किन्नर हाजी सुरैया नायक गुरु मंगलवारा और बुधवारा से पूजा नायक सहित अन्य किन्नर खुशी में नृत्य करते हुए दिखे। बेटे को गोद में उठाकर भजनों व गानों पर नृत्य किया। उसे दुलार करके आशीर्वाद दिया। कार्यक्रम शाम छह बजे शुरू हुआ। रात आठ बजे किन्नर गुरुओं का सम्मान किया गया। इसके बाद भोज हुआ। कार्यक्रम में दंपती के परिवार के सदस्य, रिश्तेदार व आसपास के लोग शामिल हुए।

ऐसे आया विचार

पिता दीपक सिंह ठाकुर बताते हैं कि बेटे-बेटियों की जन्म की खुशी में किन्नर आते हैं। गाना-बजाना करते हैं और जो दान मिलता है, उसे खुशी से ले जाते हैं। कोरोना के कारण किन्नर बेटे के जन्म की खुशी में घर नहीं आए पाए। अभी कोरोना कम हुआ तो सोचा क्यों न ऐसा आयोजन करूं कि किन्नरों को आमंत्रित करके उन्हें भोज दिया जाए। समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए उनका सम्मान करके प्रदेश व देश में ऐसा अच्छा संदेश दिया जाए। जब यह विचार परिवार के पत्नी आशा व परिवार के सदस्यों को बताया तो सभी ने सहमति जता दी। इसके बाद राजधानी के इतवारा, मंगलवारा, बुधवारा, अहमदपुर सहित अन्य इलाकों में रहने वाले 200 किन्नरों को आमंत्रति किया। वो कार्ड देखकर चकित रह गए। उन्होंने खुशी जताई। कार्यक्रम में सभी आए। किन्नर गुरुओं का सम्मान भी किया। दीपक ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम आयोजित कर किन्नरों को समाज की मुख्यधारा से जोडना चाहिए।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local