दीपक विश्‍वकर्मा, भोपाल। राजधानी का प्रमुख सांस्कृति संस्थान भारत भवन का आगामी दिनों में विस्तार होगा। बड़े तालाब के कैचमेंट एरिया वाली 1.05 एकड़ जमीन पर भारत भवन अपना कलाग्राम (आर्टिस्ट विलेज) विकसित करेगा। कला ग्राम पूरी तरह जीवंत होगा। यहां पर चित्रकार,आदिवासी कलाकार,रंगकर्मी और साहित्यकार दो साल तक रहकर अपनी कला को संवार और निखार सकेंगे। इस कलाग्राम की कल्पना 8 साल पहले की गई थी, लेकिन जमीन का आरक्षण के बाद आवंटन का प्रस्ताव जाने में 10 माह से अधिक का समय लग गया। 26 सितंबर को शहर सर्कल की ओर से आवंटन का प्रस्ताव शासन को मंजूरी के लिए भेजा गया है। इधर प्रशासन के अधिकारियों की माने तो जमीन आवंटन का ेशासन ने मंजूरी नहीं मिली है, ऐसे में अब जमीन आवंटन का प्रस्ताव फिर से तैयार कर जिला स्तरीय समिति को भेजा जाएगा।

कलाग्राम में तैयार होंगे संगीत साहित्य, रंगमंच के स्टूडियो

कलाग्राम में सभी कलाओं संगीत, साहित्य, रंगमंच, रूपंकर आदि से जुड़े स्टूडियो तैयार होंगे। यहां पर पेंटिंग्स बनाने के लिए अलग से स्टूडियों होगा जहां रहकर चित्रकार या कलाकार अपनी प्रतिभा निखार सकेगा। सिरेमिक स्टूडियों में कलाकर मिट्टी के स्कल्पचर और आकृतियां बनाना सीखेंगे। साहित्यकारों के लिए तैयार होने वाले स्टूडियों में नवीन साहित्यकार अपनी कल्पना की उड़ान भर सकेंगे। अपने लेखन को कागजों पर उतार सकेंगे। गीत, संगीत और रंगमंच के साधकों के लिए संगीत और रंगमंच स्टूडियो तैयार होगा जहां कलाकार सुर-सधाना कर सकेंगे। कलाग्राम में रंगमंडल को भी स्थान दिया जाएगा, ताकि कलाकार दिन भर नाटक की रिहर्सल कर नए-नए नाटकों का मंचन कर सकेंगे।

कलाग्राम की जमीन पर खड़े हैं 175 पेड़

कला ग्राम का निर्माण भारत भवन के ग्रीन लैंड की भूमि पर होना है। यहां पर पक्का नहीं बल्कि बांस और लकड़ियों से कलाग्राम का निर्माण होगा। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जनवरी 2020 में भारत भवन के विस्तार योजना और कला ग्राम बनाने को मंजूरी दी थी। उन्होंने कहा था कि भारत भवन जीवंत संस्थान बने और यहां पर रहकर नवीन चित्रकार, कलाकार रंगकर्मी अपनी कला को निखार सकें। वर्तमान में कलाग्राम को आवंटिन की जा रही 1.05 एकड़ यानि 4250 वर्गफीट जमीन पर 175 पेड़ लगे हुए हैं। इन पेड़ों को काटने के बाद ही कलाग्राम विकसित हो सकेगा।

कलाग्राम में यह होगा खास

ओपन थिएटर - भारत भवन, कलाग्राम में युवा कलाकारों को मंच प्रदान करने के लिए ओपन थिएटर बनाएगा। यहां पर युवा प्रतिभागी कविता, गीत-संगीत, बैंड आदि की तैयारियां और प्रस्तुति दे सकेंगे।

स्कल्पचर गार्डन -कलाग्राम में स्कल्पचर गार्डन भी बनाया जाएगा। यहां रहकर कलाकार स्कल्पचर तैयार करेंगे।

आर्ट वर्क स्टूडियो - कलाग्राम में आर्ट वर्क स्टूडियों तैयार होंगे। यह स्टूडियो बांस के बनाए जाएंगे। इसमें विभिन्न जनजातीय कलाकारों को अपनी कला दिखाने का मौका मिलेगा।

भारत भवन के पीछे खाली पड़ी 13.05 एकड़ जमीन में से 1.05 एकड़ जमीन कलाग्राम विकसित करने के लिए आवंटन का प्रस्ताव राज्य शासन को भेजा गया है। शासन ने मंजूरी मिलते ही जमीन भारत भवन को दे दी जाएगी ताकि निर्माण कार्य शुरू हो सके।

देवेंद्र चौधरी, तहसीलदार शहर सर्कल

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस