भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम के मूल कर्मचारी 5-5 साल से सरकारी मकान के लिए वेटिंग में लगे हैं, लेकिन प्रतिनियुक्ति पर आए कर्मचारियों को एक ही महीने में मकान आवंटित हो रहे हैं। ताजा मामला विद्युत शाखा के सहायक ग्रेड 3 कर्मचारी आशुतोष श्रीवास्तव का है। निगम ने एक महीने में ही कर्मचारी को शिवाजी नगर में सी 60 नंबर का आवास आवंटित कर दिया। इस मामले को आरटीआई एक्टिविस्ट नितिन सक्सेना ने निगम आयुक्त केवीएस चौधरी कोलसानी से शिकायत की है।

गौरतलब है कि इन दिनों नगर निगम में प्रतिनियुक्ति पर आए कर्मचारियों का बोल-बाला है। एक विशेष बंगले की कृपा से सभी प्रतिनियुक्ति पर आए कर्मचारियों को मनपसंद विभाग के अलावा मकान भी मिल रहे हैं। रिटायर्डमेंट के बाद भी वॉटर वर्क डिपार्टमेंट का पूरा जिम्मा संविदा नियुक्ति देकर प्रभार देना, फिर दो साल तक यह संविदा नियुक्त आगे बढ़ाना, विद्युत शाखा से लेकर सिविल डिपार्टमेंट प्रतिनियुक्ति अधिकारी को स्मार्ट सिटी में इंट्री देना जैसे काम हाल में हुए हैं। अब ताजा मामला मकान आवंटन को लेकर सामने आया है, जहां एक प्रतिनियुक्ति कर्मचारी को मकान का आवंटन आनन-फानन में दिया गया।

मूल कर्मचारियों के लिए वेटिंग

नगर निगम के मूल कर्मचारी और अधिकारी लंबे समय से आवास आवंटन की मांग कर रहे हैं। लेकिन निगम इन्हें आवास आवंटित नहीं कर रहा। करीब 5-5 साल से वेटिंग चल रही है। उल्लेखनीय है कि निगम के रोशनपुरा चौराहा स्थित बेतवा अपार्टमेंट, माता मंदिर, बरखेड़ी, पुल बोगदा फायर स्टेशन, फतेहगढ़, शिवाजी नगर, तुलसी नगर, 5 नंबर स्टॉप, बैरसिया रोड, मंगलवारा, गिन्नौरी आदि जगहों पर सरकारी मकान है। जहां निगम के मूल कर्मचारियों के अलावा प्रतिनियुक्ति वाले कर्मचारी भी रह रहे हैं।

नगर निगम कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए उन्हें आवास आवंटित करता है। इसमें मूल और प्रतिनियुक्ति के कर्मचरियों के लिए समान सुविधाएं हैं। यदि आवास आवंटन में कुछ शिकायतें आ रही हैं, तो इसकी जांच कराई जाएगी।

-केवीएस चोधरी कोलसानी, आयुक्त नगर निगम, भोपाल

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close