Bhopal News: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। प्रदेश के किसी भी विश्वविद्यालय या महाविद्यालयों में अकादमिक कैलेंडर का पालन नहीं किया जा रहा है। स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए हर साल अकादमिक कैलेंडर जारी किए जाते हैं, लेकिन उसका पालन नहीं होता है। अब तक कोई भी विश्वविद्यालय यूजी प्रथम वर्ष का परिणाम समय से जारी नहीं कर पाया है। इसे लेकर द्वितीय वर्ष में प्रवेश में देरी हो रही है। उच्च शिक्षा विभाग ने कालेजों में यूजी व पीजी के लिए परीक्षा संचालन से लेकर रिजल्ट की समीक्षा को लेकर मानीटरिंग सेल गठित किया है। यह सेल यूजी व पीजी पाठ्यक्रमों के लिए प्रतिवर्ष विभाग द्वारा आयोजित की जाने वाली सेमेस्टर, वार्षिक, प्रायोगिक और एटीकेटी परीक्षाओं के आयोजन व परीक्षा परिणामों सहित पूनर्मूल्यांकन की सतत समीक्षा करेगा। बता दें, कि यूजी व पीजी के रिजल्ट में देरी होने के कारण प्रदेश के कालेजों में प्रोविजनल प्रवेश दिए जाएंगे, लेकिन दूसरे राज्य के कालेजों में रिजल्ट मिलने के बाद प्रवेश दिए जाते हैं।

सेल में तीन ओएसडी व तीन सहायक अधिकारी शामिल

इस सेल में तीन विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी (ओएसडी) और तीन सहायक ग्रेड के अधिकारियों को सहायक नियुक्त किया गया है। इसमें ओएसडी डा. आलोक निगम को समन्वयक बनाया गया है। वहीं ओएसडी डा. डीपी सिंह और अनिल कुमार राय को सदस्य बनाया गया है।

अंकसूचियों के वितरण की भी जिम्मेदारी

यह सेल प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में बैठक कर अकादमिक कैलेंडर के तहत होने वाली परीक्षाओं और परीक्षा परिणामों का निरीक्षण करेंगे। इसके अलावा अंकसूचियों के वितरण संबंधी कार्यों की नियमित समीक्षा की जाएगी। इसके अलावा विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित की जाने सेमेस्टर, वार्षिक, प्रायोगिक और एटीकेटी परीक्षाओं के आयोजन और परिणाम की भी समीक्षा की जाएगी।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close