भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। लिंक रोड नंबर एक स्थित नानके पेट्रोल पंप के पास लगाई गई पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा का अनावरण होने से पहले ही राजनीति शुरू हो गई है। भाजपा जहां महापुरुष के स्थान पर राजनेता की प्रतिमा रखे जाने पर महापुरुषों का अपमान बता रही है, वहीं कांग्रेस का कहना है कि एमआईसी के निर्णय का ही पालन हो रहा है। भाजपा के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान के साथ ही नेता प्रतिपक्ष मप्र विधानसभा गोपाल भार्गव भी इस विवाद में कूद पड़े हैं। जबकि, कांग्रेस के नरेंद्र सलूजा ने कहा है कि यह महापौर परिषद का निर्णय था, जिसका पालन हो रहा है। बता दें कि नगर निगम ने मप्र के पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा नानके पेट्रोलपंप के पास स्थापित की है, जिसका अभी अनावरण होना बाकी है। निगम द्वारा स्व. अर्जुन सिंह की यह मूर्ति 11 लाख 95 हजार रुपए की लागत से तैयार करवाई है। इसकी ऊंचाई 10 फीट और वजन 985 किलोग्राम है। निगम आयुक्त विजय दत्ता का कहना है कि ऐसा कुछ नहीं किया गया कि जिससे महापुरुषों के सम्मान में कोई कमी आए। राजनीति के चलते इसे मुद्दा बनाया जा रहा है।

यह है विवाद की वजह

बता दें कि तीन साल पहले रोटरी हटाकर सड़क चौड़ी करने के लिए निगम ने चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को अपेक्स बैंक की तरफ सड़क के किनारे स्थापित किया था। लेकिन अब अर्जुन सिंह की प्रतिमा उसी जगह लगाई गई है, जहां से आजाद की प्रतिमा हटाई गई थी। एमआईसी में सिंह की प्रतिमा लगाने पर निर्णय हुआ था, लेकिन जगह तय नहीं हुई थी। कांग्रेस के नेताओं के इशारे पर निगम प्रशासन ने वहां महापौर और एमआईसी से चर्चा के बिना ही सिंह की प्रतिमा स्थापित करवा दी।

महापौर ने कहा...राजनेताओं का सम्मान पर एक्सीडेंटल जोन नहीं बनाना चाहते

शहर में ट्रैफिक व्यवस्था को बेहतर करने के लिए हमने पं दीनदयाल, डॉ. शंकर दयाल शर्मा, अग्रसेन महाराज, पं उद्धवदास मेहता की प्रतिमाओं को रोड से हटाकर सड़क के किनारे स्थापित किया था। ताकि यहां एक्सीडेंटल जोन न बने। हम महापुरुषों और राजनेताओं का सम्मान करते हैं, इसलिए एमआईसी और परिषद में प्रस्ताव पारित किया गया था। पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पास हुआ। लेकिन ये कहां लगेगी, इसका स्थान कांग्रेस के कुछ कतिपय नेताओं के कहने पर निगम अधिकारियों ने तय किया है। महापौर और एमआईसी के संज्ञान में नहीं लाया गया। महापुरुषों की तुलना राजनेताओं से नहीं की जा सकती।

किसने क्या कहा

दोषियों पर कार्रवाई हो

महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ ऐसे कृत्य से मध्य प्रदेश शर्मिंदा है। आजाद की प्रतिमा की जगह पूर्व सीएम की प्रतिमा लगाने को दुस्साहस किया गया है। दोषियों पर तत्काल कड़ी कार्रवाई हो। आजाद की प्रतिमा को वापस उसी स्थान पर स्थापित करना चाहिए, जहां से उसे हटाया गया था। - शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री

सरकार की भक्ति में भूले महापुरुषों का सम्मान

प्रदेश सरकार की भक्ति में अधिकारी महापुरुषों को भूल गए हैं। ये घोर लापरवाही और शहीद चंद्रशेखर आजाद का अपमान है। सरकार के पास शहर में और भी जगह है पूर्व मुख्यमंत्री की प्रतिमा लगाने के लिए, लेकिन ये कृत्य बताता है कि सरकार के पास शहीद के सम्मान की जगह नहीं है। - गोपाल भार्गव, नेता प्रतिपक्ष मप्र विधानसभा

बिना तथ्य जोन आरोप लगा रहे

पता नहीं पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को आजकल कौन सलाह दे रहा है। वह बगैर तथ्य जाने कुछ भी आरोप लगा देते हैं। कुछ भी ट्वीट कर देते हैं। अब ट्वीट कर रहे हैं कि महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर अजाद की लिंक रोड नंबर एक से प्रतिमा हटाने का जो कृत्य किया गया है उससे प्रदेश शर्मिंदा है। जबकि सच्चाई यह है कि उनकी सरकार में, उनकी निगम परिषद ने ही तीन साल पूर्व यह प्रतिमा हटाने का दुस्साहस किया था। तीन वर्ष से यह चौराहा रिक्त था। जिस पर एक वर्ष पूर्व महापौर परिषद व नगर निगम परिषद ने स्व. अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पास किया था। इसी निर्णय का पालन हो रहा है। - नरेंद्र सलूजा, कांग्रेस नेता

Posted By: Nai Dunia News Network