Bhopal News: संत हिरदाराम नगर, नवदुनिया प्रतिनिधि। पूज्य सिंधी पंचायत ने सामाजिक बुराइयां दूर करने के लिए विशेष अभियान चलाने का निर्णय लिय है। पंचायत ने अपने सदस्यों से आग्रह किया है कि वे पगड़ी रस्म सादगी करें। शोक बैठक में स्वल्पाहार की व्यवस्था नहीं करें।

पंचायत ने काफी समय पहले सामाजिक बुराइयां दूर करने का अभियान शुरू किया था। सबसे पहले मृत्यु भोज पर रोक लगाने का निर्णय लिया था। इस अभियान के अच्छे नतीजे आए। लोग अब तेरहवीं पर केवल घर के सदस्यों के लिए ही भोजन करने लगे हैं। हालांकि पंचायत ने यह भी स्पष्ट किया है कि यदि स्वर्गवासी सदस्य की आयु 80 वर्ष से अधिक है तो तेरहवीं पर सादगी से रिश्तेदारों के लिए भोजन की व्यवस्था कर सकते हैं। पंचायत के महासचिव माधु चांदवानी के अनुसार कुछ लोग अब भी मृत्यु भोज कर रहे हैं। ऐसे सदस्यों से विनम्रतापूर्वक आग्रह किया जा रहा है कि वे ऐसा न करें। पंचायत के पदाधिकारियों ने अब निर्णय लिया है कि वे मृत्यु भोज में शामिल नहीं होंगे। पंचायत अध्यक्ष साबूमल रीझवानी एवं उपाध्यक्ष परसराम आसनानी का कहना है कि हमने सदस्यों से आग्रह किया है कि वे भी मृत्यु भोज में न जाएं, इससे धीरे-धीरे यह कुप्रथा समाप्त हो जाएगी।

स्वल्पाहार को परंपरा नहीं बनने देंगे

हाल के दिनों में कई बार ऐसे मौके आए जब कुछ सदस्यों ने पगड़ी रस्म मेंं ही स्वल्पाहार, चाय, काफी एवं कोल्ड ड्रिंक आदि की व्यवस्था कर दी। पंचायत पदाधिकारियों ने इस पर रोक लगाने की अपील जारी की है। चांदवानी ने कहा है कि पगड़ी रस्म में स्वल्पाहार की व्यवस्था को परंपरा नहीं बनने देंगे। कुछ परिवार बुजुर्ग की मृत्यु होने पर तेरहवीं नहीं कर पगड़ी रस्म में ही स्वल्पाहार की व्यवस्था करते हैं। चांदवानी का कहना है कि ऐसा किया जा सकता है लेकिन हर शोक सभा में चाय, नाश्ते की व्यवस्था करना ठीक नहीं है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close