Bhopal News :भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। रेलवे अस्पताल के अलावा भी रेल कर्मचारी व उनके परिजन रेलवे से अनुबंधित अस्पतालों में जाकर अपना इलाज करवा सकते हैं। पश्चिम मध्य रेल ने 49 अस्पतालों को रेलवे कर्मचारियों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं देने के लिए अनुबंधित किया है। भोपाल में भी ऐसे नौ अस्पताल हैं, जिनमें जाकर रेल कर्मचारी अपना इलाज करवा सकते हैं। भोपाल के अलावा जबलपुर में 23, कोटा में आठ, सागर में दो, सवाई माधोपुर, गंगापुर, फरीदाबाद, नई दिल्ली, गाजियाबाद, कटनी और सतना में एक-एक अस्पताल में जाकर रेल कर्मचारी अपना इलाज करवा सकते हैं। अनुबंधित अस्पतालों में कोई भी रेल कर्मचारी, रिटायर रेल कर्मचारी जाकर चिकित्सीय विशेषज्ञ की ओपीडी सेवाओं का लाभ ले सकेंगे, लेकिन इसके लिए ओपीडी के मात्र 150 रुपए तक की रसीद कटवाना होती है। इसके अलावा रेलवे अस्पतालों में भी ओपीडी की सुविधा जारी रहेगी।

इस तरह से करा सकेंगे इलाज :

निजी अनुबंधित अस्पतालों में भर्ती होने के लिए रेलवे कर्मचारियों को रेलवे अस्पताल से रेफर किया जाता है। आकस्मिक स्थिति में सीधे अनुबंधित अस्पतालों में इलाज के लिए पहुंच सकते हैं। इसके लिए प्राइवेट अस्पताल रेल कर्मचारी को इमरजेंसी सर्टिफिकेट जारी करते हैं। जिसके आधार पर रेलवे के डाक्टर मरीज को बाद में भी रेफर कर सकते हैं। किसी कारण से या इमरजेंसी प्रूफ न होने की स्थिति में भर्ती मरीज का पूरा इलाज सीजीएचएस की सस्ती दरों पर मरीज से भुगतान लेकर किया जाता है। हालांकि इलाज के लिए रेलवे कर्मचारी को उम्मीद कार्ड दिखाकर अपना या अपने परिजन का इलाज करवाना हाेता है।

विशेषज्ञों से ले सकेंगे ट्रीटमेंट :

अनुबंधित अस्पतालों में कर्मचारी कैंसर, हृदय रोग, उदर रोग, अस्थि रोग सहित ट्रामा अस्पतालों में जाकर बेहतर चिकित्सा सुविधा का लाभ ले सकते हैं। रेलवे के अस्पतालों में सभी रोगों के विशेषज्ञ रोग न होने और आधुनिक सुविधाओं के अभाव में रेल कर्मचारी अनुबंधित अस्पतालों में जाकर बेहतर चिकित्सा सुविधा का लाभ ले सकते हैं।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close