भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय सेना की विभिन्न इकाइयों में निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों ने लगातार बढ़ती महंगाई पर चिंता प्रकट की है। निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों की संस्था एमईएस बिल्डर्स एसोसिएशन ने केंद्र सरकार से मदद मांगी है।

संगठन के अध्यक्ष पीयूष मिश्रा एवं दीपक वासंदानी ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि कोराना काल से पहले भवन निर्माण सामग्री के दाम कम थे। कई जगह निर्माण कार्य के टेंडर हुए थे। उस समय सभी ने बाजार भाव के अनुसार निर्माण कार्य करने की स्वीकृति दी थी, लेकिन कोरोना संकट शुरू होते ही काम बंद हो गए। सेना की कई इकाइयों में सुरक्षा की दृष्टि से बाहर के लोगों को प्रवेश बंद बंद कर दिया गया। निर्माण कार्य पर भी रोक लगा दी गई। अब काम प्रारंभ हो गए हैं, लेकिन पुराने टेंडर होने के कारण हमारे सदस्य काम नहीं कर पा रहे हैं। इसकी बड़ी वजह है महंगाई के दाम आसमान पर पहुंचना। अब भवन निर्माण सामग्री के दाम बढ़ गए हैं। ठेकेदार पुराने भाव से काम नहीं कर पा रहे हैं। ठेकेदारों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है, लेकिन छोटे ठेकेदारों को बढ़े हुए दाम देने का प्रावधान नहीं होने से दिक्कत हो रही है। संगठन ने भारत सरकार से मदद मांगी है। संगठन के पदाधिकारियों से कहा है कि भारतीय सेना से हमारा गहरा लगाव है। देशभक्ति की भावना के कारण वे लगातार नुकसान के बावजूद काम कर रहे हैं। अब सरकार से सहयोग की उम्मीद कर रहे हैं।

सीमेंट, रेत, गिट्टी सबके दाम बढ़ गए

निर्माण कार्य करने वालों का कहना है कि पिछले एक साल में ही भवन निर्माण सामग्री के दाम बेतहाशा बढ़े हैं। सीमेंट, रेत, गिट्टी, ईंट के दाम 50 फीसद तक बढ़ गए हैं। लोहा, रंग, रोगन, हार्डवेयर, सेनेटरी सहित भवन निर्माण में लगने वाली सभी प्रकार की सामग्री के भाव आसमान छू रहे हैं। एमईएस बिल्डर्स एसोसिएशन ने सरकारी स्तर पर बढ़ी हुई महंगाई का लाभ छोटे भवन निर्माताओं को देने का आग्रह भारत सरकार से किया है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close