Bhopal News: भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। शहर में बसों की आवाजाही के लिए सभी क्षेत्रो में टर्मिनल विकसित किए जा रहे हैं। इसके तहत चार बस टर्मिनल बन चुके हैं, लेकिन इन्हें भी नए सिरे से विकसित किया जाना है। जबकि पांचवा टर्मिनल सलैया में बनाने के लिए भूमि की जांच चल रही है। साथ ही यह भी पता लगाया जा रहा है कि यहां कितनी बसें एक साथ खड़ी हो सकती हैं।

बीसीएलएल बसों के लिए सबसे पहले सीहोर नाके पर बस टर्मिनल बनाया गया था, लेकिन अधूरे विकास कार्य के कारण बस को रुकने के अलावा उनका मेंटेनेंस नहीं हो पा रहा है। इसलिए इस टर्मिनल को बस डिपो की तर्ज पर तैयार किया जाएगा। वहीं जवाहर चौक का बस टर्मिनल भी अस्थाई बनाया गया था, लेकिन उसके बाद यहां सुविधाएं अभी विकसित नहीं हो पाई हैं। इसे अत्याधुनिक टर्मिनल के रूप में विकसित किया जाएगा। पहले यहां पर राज्य परिवहन निगम का बस टर्मिनल था। तीसरा बस टर्मिनल आईएसबीटी पर है, लेकिन जवाहर चौक और सीहोर नाके पर बने बस टर्मिनल के मुकाबले आईएसबीटी का टर्मिनल काफी बेहतर है, लेकिन यहां भी बसों को सुधारने के लिए नई मशीनें आनी हैं।

बागसेवनियां में रेत बाजार के पास बीसीएल की बसें खड़ी हो रही हैं। उस स्थान को ही टर्मिनल के रूप में तैयार किया जाएगा। जबकि अभी हाल ही में सलैया में नए बनने वाले टर्मिनल के स्थान का चयन कर जल्दी ही सुरक्षा दीवार बनाने का काम शुरू होगा। अभी इस स्थान की जांच चल रही है, जिससे यह जानकारी मिल सके कि यहां कितनी बसें एक साथ खड़ी हो सकती हैं।

इनका कहना

नगर निगम शहर के चारों तरफ आवागमन की सुविधाओं को विस्तार कर रहा है। ऐसे में यहां पर्याप्त मात्रा में बस टर्मिनल बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है।

- संजय सोनी, पीआरओ बीसीएलएल

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close