भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। कालोनी के सामने से दिन भर तेज रफ्तार में डंपर निकलते हैं। रेत और कोपरे के भरे डंपरों की रफ्तार इतनी तेज होती है कि यदि अचानक कोई सामने आ जाए तो इनमें ब्रेक भी सही समय पर नहीं लग सकेंगे। हमने कई बार शिकायत भी की, लेकिन समस्या बनी हुई है। इस कारण बच्चों को बाहर खेलने और साइकिल चलाने से रोक दिया है। यह कहना है कोलार की अमरनाथ कालोनी के रहवासी राजेश जैन का। राजेश बताते हैं कि अमरनाथ कालोनी के साथ सागर ग्रीन और आसपास की कुछ कालोनी के लोग दिनभर डंपर निकलने की समस्या से परेशान हैं। कई बाद दिन भर में 80 से 100 चक्कर तक डंपर निकलते हैं। इनकी तेज रफ्तार और शोर के कारण रात के समय नींद भी खराब होने लगी है।

डीजल और रायल्टी बचाने नियम तोड़ रहे डंपर चालक

डंपर चालक अपने वाहन का डीजल और रायल्टी बचाने के लिए अमरनाथ कालोनी से होते हुए चंदनपुरा की ओर मुड़ जाते हैं। यहां से केरवा चौकी होते हुए रातीबढ़ की ओर निकल जाते हैं। ऐसे में इनका 8 किमी का फेरा बचता है और ये खनिज जांच से भी बच जाते हैं। नियमानुसार शाम 6 बजे के बाद इस क्षेत्र से किसी भी बड़े वाहन का निकलना प्रतिबंधित है। दिन के समय भी वाहन की रफ्तार 20 किमी प्रति घंटा से ज्यादा नहीं होना चाहिए। डंपर चालक यह दोनों ही नियम तोड़ रहे हैं।

डंपरों के शोर से रात के समय नींद खराब हो रही है। पूरी रात इस क्षेत्र से डंपर निकलते रहते हैं। दिन के समय भी कालोनी के बाहर खड़ा होना मुश्किल है।

- टिंकल मेवानी, रहवासी

लगातार डंपर निकले के कारण कालोनी की सड़कें उखड़ गई हैं। शिकायत के बाद भी इन पर रोक नहीं लग सकी है। इनके निकलने से वन्य प्राणियों को भी खतरा है। इन पर रोक लगाकर वन विभाग को केरवा बैरियर को भी बनाना चाहिए।

- राशिद नूर खान, पर्यावरण कार्यकर्ता

आपके द्वारा मामला संज्ञान में आया है। इसकी जानकारी लेकर कार्रवाई करवाएंगे।

- चंद्रकांत पटेल, थाना प्रभारी, कोलार थाना

खनिज के डंपरों की चैकिंग का काम खनिज विभाग की टीम का है। यदि खनिज विभाग इन पर लगाम लगाने के लिए कोई कार्रवाई करेगा, तो उनकी मांग पर उनको थाने का बल उपलब्ध कराया जाएगा।

- वीरेंद्र सिंह चौहान, थाना प्रभारी, रातीबढ़ थाना

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close