भोपाल। मप्र में जब तक शराब पूर्णत: बंद नहीं हो जाती, महिलाओं का नशा मुक्ति के खिलाफ अभियान जारी रहेगा। शराब की वजह से महिलाएं परेशान हैं, इनके घर बर्बाद हो चुके हैं। बच्चे नशे की वजह से समय से पहले बूढ़े हो रहे हैं, पति मृत्युशैया पर हैं। महिलाएं जवानी में विधवा हो रही हैं। इसलिए महिलाओं को यदि बचाना है तो शराबदी करनी ही होगी। यह बात रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती ने नशा मुक्ति के खिलाफ महिलाओं के साथ निकाली गई सांकेतिक पदयात्रा में कही।

उमा भारती ने नीलम पार्क में महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि शराबबंदी को लेकर किए गए उनके ट्वीट के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी उनका समर्थन किया है। उन्होंने प्रदेश स्तर पर नशामुक्ति अभियान चलाने का आश्वासन दिया है। उमाभारती ने कहा कि अब तक किसी प्रदेश सरकार ने नशा मुक्ति के खिलाफ अभियान नहीं चलाया है। ऐसा करने वाला मप्र देश में पहला राज्य होगा। तीर्थ दर्शन यात्रा की शुरुआत सबसे पहले मप्र ने किया था। बाद में अन्य राज्यों ने इसका अनुसरण किया। ऐसे ही नशामक्ति अभियान के लिए मप्र अन्य राज्यों के लिए रोल माडल साबित होगा।

शराबबंदी के लिए माफिया से लड़ने को तैयार

उमा भारती ने गांधी जयंती के मौके पर सांकेतिक पदयात्रा शुरू करने से पहले कर्फ्यू वाली माता मंदिर में महिलाओं के साथ पूजा-अर्चना की। इसके बाद वह तलैया स्थित काली मंदिर पहुंची और वहां मां काली के दर्शन किए। इसके बाद नीलम पार्क में महिलाओं को संबोधित कर मिंटो हाल पहुंची। यहां उन्होंने गांधी जी की मूर्ति पर माल्यार्पण करते हुए महाभारत के युद्ध में अर्जुन और भगवान विष्णु का संवाद सुनाते हुए महिलाओं से कहा कि आप लोग भगवान विष्णु की तरह मेरे साथ इस अभियान में उपवास रहकर भी खड़ी हैं। इसलिए मैं वचन देती हूं कि आपके लिए, आपकी इज्जत के लिए, गरीब के लिए, गाय और गंगा के लिए, तिरंगा और नारी के सम्मान के लिए जान की बाजी लगा दूंगी। मैंने तिरंगे के लिए कुर्सी छोड़ दी, राम के लिए फांसीं पर लटकने को तैयार हो गई। अब महिलाओं के सम्मान में शराब माफियाओं से लड़ने को तैयार हूं।

महिलाओं ने पुष्पवर्षा कर किया स्वागत

शराबबंदी को लेकर पदयात्रा के दौरान कर्फ्यू वाली माता मंदिर से मिंटो हाल तक सड़क के किनारे जगह-जगह महिलाओं ने पुष्पवर्षा कर उनका स्वागत किया। शराबबंदी के इस अभियान में उनका साथ देने का नारा दिया। इस दौरान शहर के विभन्न क्षेत्रों से दो हजार से अधिक महिलाएं उपस्थित रहीं।

महिला ने लगाई गुहार, तो बोलीं उमा- यहां भीड़, घर में आकर मिलें

नीलम पार्क में सभा को संबोधित करने के दौरान उमा भारती से एक महिला खड़ी होकर उन्‍हें अपनी समस्या बताने लगी। इस पर उन्होंने कहा कि यहां बहुत भीड़ है। शोर-शराबे के बीच बात नहीं सुनाई देगी। आप लोग मेरे घर पर आइए, वहां पूरी बात सुनी जाएगी। आपकी हर समस्या में मैं आपके साथ हूं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close