भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बालीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन द्वारा वन विहार नेशनल पार्क में कुछ शरारती पर्यटकों द्वारा बाघ को पत्‍थर मारने का वीडियो शेयर किए जाने के बाद पार्क प्रबंधन वन्‍यप्राणियों की सुरक्षा को लेकर सतर्क हो गया है। इसी क्रम में पार्क के भीतर अब पर्यटकों के लिए वाहन से घूमने की गतिसीमा भी तय कर दी गई है। अब तेज गति से गाड़ी चलाने पर वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम के तहत कार्रवाई हो सकती है। प्रबंधन ने उद्यान के दोनों प्रवेश द्वार पर ही वाहन चालकों को अपने वाहन की गति 20 किमी प्रति घंटा से कम रखने की निर्देश देना शुरू कर दिए हैं। राष्ट्रीय उद्यान के अंदर जाते ही 15 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी छह किमी के रास्ते पर नियमों का पालन करवाने के लिए खड़े हो गए हैं। इसके अलावा वन विहार का गश्ती वाहन भी लगातार घूम कर पर्यटकों पर कड़ी नजर रखे हुए है। इस दौरान जो लोग नियमों का पालन करते हुए नहीं दिख रहे, उन पर जुर्माना भी किया जा रहा है। प्रबंधन ने यह सख्ती फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन के ट्वीट के बाद की है। वहीं रवीना ने भी पार्क के भीतर विडाल प्रजाति (बड़ी बिल्लियों) के संरक्षण के लिए किए जा रहे कार्यों के प्रति शुक्रिया अदा किया है।

वन विहार की सक्रियता से रवीना संतुष्‍ट

वन विहार प्रबंधन ने रवीना के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि प्रबंधन पहले से ही इस घटना की जांच कर रहा है और इन बदमाशों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। संरक्षित प्रजातियों को इस तरह से परेशान करना वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत दंडनीय है। वन विहार के इस ट्वीट का जवाब देते हुए रवीना ने कहा कि वन विहार का शुक्रिया। वन्यप्राणियों के संरक्षण और विडाल प्रजातियों को बचाने के लिए आप अद्भुत काम कर रहे हैं। हालांकि कुछ बदमाश ऐसी हरकतों से वन्यजीव प्रेमियों के अनुभवों को खराब करते हैं। यह वीडियो मेरी टीम और मेरी बेटी द्वारा बनाया गया था, जो पार्क घूमने आए थे। इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए थोड़ी और सावधानी बरतनी चाहिए।

नियमित प्रक्रिया है सुरक्षा व्यवस्था का पालन

वन विहार पार्क के असिस्टेंट डायरेक्टर एके सिन्हा के अनुसार सुरक्षा व्यवस्था को बनाए रखना एक नियमित प्रक्रिया है। उन्होंने बताया कि वन विहार में वन्य प्राणियों को छेड़ने, उनके बाड़े के आसपास शोरशराबा करने, जानवरों को कुछ खिलाने और वाहन की गति 20 किमी प्रतिघंटा से तेज रखना प्रतिबंधित है। इन नियमों को तोड़ने पर जुर्माना किया जाता है। 2021-22 में 217 मामलों में 46,750 रुपये की जुर्माना राशि वसूल की गई है। इसी तरह 2022-23 में अक्टूबर माह तक 212 मामलों में 42,880 रुपये की जुर्माना राशि वसूल की गई है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close