Bhopal Pollution News : भोपाल ( नवदुनिया प्रतिनिधि )। राजधानी में दो और स्थानों पर वायु की गुणवत्ता पर नजर रखने वाले स्टेशन लगाए जा रहे है। ये सेंसर और उपग्रह आधारित होंगे, जो स्वत: ही हवा में हानिकारकों के स्तर पर नजर रखेंगे। इनके लगने के बाद वायु प्रदूषण पर नियंत्रण रखने में मदद मिल सकेगी। अभी राजधानी में सिर्फ टीटी नगर पुलिस थाना परिसर में ही एकमात्र स्टेशन है।

भोपाल का वायु गुणवत्ता सूचकांक हर साल ठंड के दिनों में 300 से 400 के बीच होता है। यह हवा की गंभीर स्थिति को दर्शाता है। सामान्य तौर पर सूचकांक को 50 तक या उससे नीचे होना चाहिए। यह तभी होता है जब हवा में धूल, धुएं के कण और हानिकारक गैसों का मिश्रण न हो। वातावरण में इन तीनों का स्तर हमेशा बना रहता है। बारिश में ये कण असरदार नहीं होते है, इसलिए प्रदूषण का खतरा नहीं होता है। गर्मी में वातावरण पूरी तरह शुष्क हो जाता है इसलिए कण भी अधिक ऊंचाई तक फैल जाते हैं और प्रदूषण का असर नगण्य होता है। विशेषज्ञों के अनुसार ठंड ही एकमात्र ऐसा सीजन है जिसमें हानिकारक कण भारी होकर निचले वायु मंडल में रहते हैं इसके कारण प्रदूषण खतरनाक स्तर तक पहुंच जाता है। पर्यावरण विभाग की टीम राजधानी भोपाल में वायु प्रदूषण की स्थिति पर लगातार अपनी नजर रखे हुए हैं। इनके स्तर पर नियंत्रण के प्रयास किए जा रहे हैं। प्रदूषण की जांच के लिए दो स्टेशनों को स्वीकृति भी इन्हीं प्रयासों के तहत मिली है।

हमीदिया रोड और गोविंदा क्षेत्र में लगेंगे दो स्टेशन

भोपाल में अभी सात स्थानों पर वायु गुणवत्ता की जांच की जाती है। इनमें से टीटी नगर में हवा की स्व: जांच करने वाला स्टेशन है। जबकि गोविंदपुरा, होशंगाबाद रोड, हमीदिया रोड, कोलार, अरेरा हिल्स, पर्यावरण परिसर में मैनुअली जांची होती है। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि एक उपकरण हमीदिया रोड और दूसरा गोविंदपुरा क्षेत्र में लगाया जाएगा।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local