भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गुजरात के गांधीनगर स्टेशन के बाद अब मप्र की राजधानी भोपाल में स्‍थित हबीबगंज रेलवे स्टेशन भी विश्‍वस्‍तरीय सुविधाओं से लैस होकर नए कलेवर में बनकर तैयार है। इसके लोकार्पण की तैयारियां शुरू हो गई हैं। अगले माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस स्टेशन का लोकार्पण कर सकते हैं। निजी भागीदारी से विकसित यह देश का पहला स्टेशन है। इस पर 450 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। 100 करोड़ रुपये से प्लेटफार्मों पर यात्री सुविधा विकसित करने का काम पूरा हो चुका है। 350 करोड़ से स्टेशन परिसर में सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, सिनेमा, शॉपिंग काम्प्लेक्स, फाइव स्टार होटल का निर्माण किया जा रहा है। रेलवे ट्रैक के ऊपर डोम के आकार का एयर कॉन्कोर (एक तरह का बड़ा, आधुनिक सुविधा वाला फूट ओवर ब्रिज) बनकर तैयार है। यहां 1100 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था की गई है। दो साल पहले दो अंडरग्राउंड सब-वे चालू कर दिए गए थे। ये प्लेटफार्मों से जुड़े हैं। ट्रेनों से उतरने वाले यात्री सीधे इन सब-वे से बाहर निकल जाते हैं। यात्री सुविधा वाला 36 मीटर उंचा भवन व दोनों तरफ की पार्किंग तैयार है। प्लेटफार्मों पर आधुनिक शेड लगा दिए हैं। स्टेशन परिसर में ऑफिस कॉम्प्लेक्स बन चुका है। सिनेमा, अस्पताल, होटल, शॉपिंग काम्प्लेक्स की सुविधा मिलने में डेढ़ से दो साल लगेंगे।

एसोचैम ने दिया फाइव स्टार जेम रेटिंग पुरस्कार

विश्वस्तरीय सुविधा वाले स्टेशन में शामिल होने जा रहे हबीबगंज रेलवे स्टेशन को फाइव स्टार जेम रेटिंग पुरस्कार मिला है। यह पुरस्कार पर्यावरण, जल संरक्षण और टिकाऊ निर्माण कार्यों के लिए भारतीय वाणिज्य एंव उद्योग मंडल (एसोचैम) ने जुलाई 2021 दिया है।

प्रवेश व निकासी अलग

हबीबगंज स्टेशन के प्लेटफार्म-1 व प्लेटफार्म-5 की तरफ से पहुंचने वाले यात्रियों के लिए प्रवेश व निकासी व्यवस्था अलग-अलग कर दी है। स्टेशन के अंदर आने वाले यात्रियों को दोनों तरफ के मुख्य भवनों से एयर कॉन्कोर के जरिए प्रवेश करना होगा। ये यात्री ट्रेन के समय तक एयर कॉन्कोर पर इंतजार करेंगे। वहीं जो यात्री ट्रेन से प्लेटफार्म पर उतरेंगे, उन्हें अंडर ग्राउंड सब-वे से होकर बाहर निकलना होगा।

यात्रियों के लिए यह सुविधाएं

- 12 एस्केलेटर लगाए हैं जो कॉन्कोर व प्लेटफार्म से जुड़े हैं

- 03 ट्रेवलेटर हैं जो यात्रियों को सहूलियतें प्रदान करेंगे।

- 120 इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले हैं जो ट्रेनों के कोच की जानकारी देंगे।

- 300 से अधिक एलईडी स्क्रीन हैं जो यात्रियों को सुविधाओं की जानकारी देंगी।

- 08 लिफ्ट हैं, जो यात्रियों के लिए मददगार साबित होंगी।

- 176 सीसीटीवी कैमरे, जो प्लेटफार्म व परिसर में होने वाली गतिविधियों पर नजर रखेंगे।

निजी भागीदारी से बन रहा स्टेशन

नोडल एजेंसी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आइआरएसडीसी) हबीबगंज स्टेशन को निजी भागीदारी से विकसित करवा रहा है। बाकी के काम भी उसी के तहत होने हैं। निजी डेवलपर बंसल पाथ-वे हबीबगंज प्राइवेट लिमिटेड जो राशि स्टेशन के विकास पर खर्च कर रहा है। उसके बदले रेलवे ने डेवलपर को 45 साल के लिए वाणिज्य गतिविधियों की छूट दी है। यही डेवलपर पांच साल तक स्टेशन की देखरेख भी करेगा।

निजी भागीदारी के तहत हबीबगंज रेलवे स्टेशन को पुन: विकसित किया गया है। इस योजना के तहत यात्री सुविधाओं से जुड़े सभी काम 100 फीसद पूरे हो गए हैं। स्टेशन परिसर में वाणिज्य गतिविधियों से जुड़े काम चल रहे है। अगस्त माह में लोकार्पण होना है।

- राजेश मंडलोई, एजीएम, इंडियन रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कार्पोरेशन, भोपाल

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local