भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। संत हिरदाराम नगर रेलवे स्टेशन पर लगभग 50 साल पुराने फुटओवर ब्रिज के विस्तार और एस्केलेटर लगाने से रेल प्रशासन ने इंकार कर दिया है। हालांकि रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए रैंप बनाने की स्वीकृति दे दी है।

संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर एफओबी का निर्माण उस समय हुआ था, जब यहां की आबादी 50 से 60 हजार तक थी। दो-तीन ही ट्रेनों का ही स्टापेज था। सुरक्षा दीवार भी नहीं थी। लोग आसानी से पटरी पार कर दूसरे छोर तक आ जाते थे। अब आबादी दो लाख से अधिक हो चुकी है। सीटीओ क्षेत्र में ही आबादी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में नागरिकों को स्टेशन आने के लिए लंबा चक्कर लगाना पड़ रहा है, क्योंकि एफओबी को बाहर की तरफ रास्ता नहीं दिया गया है। हाल ही में फुटओवर ब्रिज की मरम्मत की गई, लेकिन विस्तार नहीं किया गया। रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति के सदस्य नितेश लाल ने हाल ही में सलाहकार परिषद की बैठक में यह मामला उठाया था।

रैंप की ही स्वीकृति मिल सकी

रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति ने पिछले दिनों डीआरएम को पत्र सौंपकर एस्केलेटर बनाने का आग्रह किया था। नितेश लाल का कहना है कि फुटओवर ब्रिज की सीढ़ियों को सीटीओ छोर तक बढ़ाया जाना चाहिए। इससे उन नागरिकों को भी सुविधा हो जाएगी तो रिजर्वेशन कराने पैदल ही आरक्षण केंद्र तक आते हैं। उनके इस सुझाव को प्रशासन ने अभी स्वीकृति नहीं दी है। लाल के अनुसार रेल प्रशासन ने फुट ओवरब्रिज के पास रैंप बनाने की स्वीकृति दी है। जल्द ही टेंडर भी जारी होंगे लेकिन एस्केलेटर लगाने का प्रस्ताव अभी मंजूर नहीं किया गया है।

पिछले दिनों वरिष्ठ नागरिक हित कल्याण समिति ने भी एस्केलेटर लगाने की मांग को लेकर रेल प्रशासन को पत्र लिखा था। समिति के अध्यक्ष डा. जीटी खेमचंदानी का कहना है कि वरिष्ठ नागरिकों को फुटओवर ब्रिज पार करने में परेशानी होती है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close