भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि! भीषण गर्मी के इस दौर में राजधानी के लोगों के लिए कुछ दिन अभी और मुश्किल भरे गुजरने वाले हैं। यहां का तापमान तीन दिन लगातार कम होने के बाद 19 मई को फिर से बढ़ कर 42.3 डिग्री सेल्सियस हो गया, जबकि 18 मई को तापमान 41.5 डिग्री सेल्सियस था। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि 21 एवं 22 को भी तापमान इसी तरह बना रहेगा। 23 मई को माहौल बदलेगा। तेज हवाएं चलेंगी और हो सकता है कि बूंदा-बांदी भी हो। मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को शहर का न्‍यूनतम तापमान 28.4 डिग्री सेल्‍सियस दर्ज किया गया, जो पिछले दिन के मुकाबले 2.2 डडिग्री सेल्‍सियस अधिक था। साथ ही यह सामान्‍य से भी 1.8 डिग्री सेल्‍सियस अधिक रहा।

मौसम विज्ञानी डा. ममता यादव ने बताया कि 22 एवं 23 मई को एक द्रोणिका बनने की संभावना है, जिसका विस्तार राजस्थान से उत्तरी छत्तीसगढ़ और ओडिशा के कुछ हिस्सों तक रहेगा। इसके प्रभाव से पूर्वी मध्य प्रदेश में 22-23 मई के आसपास गरज-चमक व तेज आंधी के साथ बारिश होने का अनुमान है। यहां से प्री-मानसून शुरू होकर धीरे-धीरे 25-26 मई तक पूरे प्रदेश में फैल जाएगा और प्रदेश के कई हिस्सों में बूंदा-बांदी होगी। भोपाल सहित पूरे प्रदेश में 23 मई को मौसम बदल जाएगा और हवाएं चलने लगेंगी। इससे तापमान भी थोड़ा कंट्रोल में रहेगा, जो राहत भरी खबर है। हालांकि ये सिर्फ प्री-मानसून है। अंडमान निकोबार तक पहुंच चुका मानसून 28 मई तक केरल पहुंचेगा, उसके बाद इसका असर 2 जून के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में दिखाई देने लगेगा।

राजधानी की बात करें, तो यहां मानूसन 15 से 18 जून के आसपास पहुंचने का अनुमान है। तब तक तापमान 39-40 डिग्री सेल्सियस बना रहेगा। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि आमतौर पर जो धारणा है कि गर्मी अधिक पड़ी है, तो बारिश भी अधिक होगी, ऐसा नहीं होगा। इस साल बारिश सामान्य ही रहेगी। इसके साथ ही नौतपा में भी प्रदेश के कुछ स्थानों पर बारिश होगी। भले ही ज्योतिष इसे खराब मानसून होने का संकेत कहते हों, लेकिन इसका भी असर मानसून पर नहीं पड़ने वाला है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close