भोपाल। इस बार इंद्र देवता राजधानी में खासे मेहरबान हैं। अगस्त में माह में 25 दिन तक बरसात होने के साथ ही सितंबर में भी रोजाना झमाझम बारिश हो रही है। हालात यह हैं कि वर्ष 2017 और 2018 में पूरे सीजन में जितना पानी(1587.5 मिमी.) गिरा था। लगभग उतनी बरसात (1546.0मिमी.)इस वर्ष मंगलवार शाम 5ः30 बजे तक हो चुकी है। जबकि अभी बरसात के सीजन को 20 दिन बाकी हैं। उधर पिछले दस वर्ष में सितंबर माह की बात करें,तो इस वर्ष सितंबर के 10 दिनों की बरसात ने ही सितंबर की बारिश का रिकार्ड तोड़ दिया है।

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक इस वर्ष 28 जुलाई से तेज बौछारें पड़ने का सिलसिला शुरू हुआ था,जो पूरे अगस्त माह में बदस्तूर जारी रहा। इसके बाद सितंबर में भी लगातार मानसूनी सिस्टम सक्रिय रहने से झमाझम बरसात के कई दौर ने राजधानी और आसपास के तमाम जलस्त्रोतों को लबालब कर दिया। बरसात का क्रम भी लगातार जारी है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी 2-3 दिन तक राजधानी में तेज बौछारें पड़ने की संभावना बनी हुई है। इस दौरान भारी बरसात भी हो सकती है।

दस साल में सितंबर में इस बार सबसे अधिक हुई बरसात

वर्ष बरसात

2009 126.3

2010 76.7

2011 278.5

2012 51.4

2013 42.0

2014 99.1

2015 42.6

2016 122.2

2017 217.3

2018 81.9

2019 309.8

नोटः-इस वर्ष सितंबर माह की बरसात का आंकड़ा

10 सितंबर की शाम 5ः30 बजे तक का है।

पिछले वर्षों में सीजन की कुल बरसात

वर्ष सीजन की कुल बरसात

2012 1131.1 मिमी.

2013 1263.4 मिमी.

2014 725.2 मिमी.

2015 998.3 मिमी.

2016 1464.1मिमी.

2017 781.0मिमी.

2018 806.5 मिमी.

2019 1546.0 मिमी.

नोटः-वर्ष 2019 का आंकड़ा इस सीजन का

काली घटाओं से छाया अंधेरा, 20 मिनट में डेढ़ सेमी. बरसात

मंगलवार को सुबह के वक्त आसमान से कुछ बादलों के इधर-उधर होने से मौसम के खुलने की उम्मीद सी बंधी थी। लेकिन शाम के समय करीब 4 बजे अचानक काली घटाएं घिर आई। इससे अंधेरा छा गया। गरज-चमक के साथ ही अचानक मूसलधार बारिश शुरू हुई। करीब 20 मिनट में शहर में 16 मिमी.(डेढ़ सेमी.) पानी गिरा। उधर ऐयरपार्ट इलाके में इस दौरान 21.1 मिमी. पानी गिरा। ऐयरपोर्ट क्षेत्र में मंगलवार सुबह 8ः30 बजे से दोपहर 2ः30 बजे तक 12 मिमी. पानी गिर चुका।