राज्य ब्यूरो, भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने राज्य निर्वाचन आयोग से सवाल किया कि जिन मतदाताओं का नाम मतदाता सूची से हटाया गया है, उसका आधार क्या है। पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल गुरूवार को राज्य निर्वाचन आयुक्त से मिला और नगरीय निकाय एवं त्रि-स्तरीय पंचायतीराज के निर्वाचन के संबंध में अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन सौंपा।

भाजपा ने कहा कि चुनाव में अधिकतम मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें और बगैर किसी वैध कारण के मतदान से वंचित न रह जाएं, इसलिए मतदाताओं को प्रारंभिक मतदाता सूचियों के निरीक्षण का अवसर दिया जाए। ज्ञापन में कहा गया है कि पुरानी प्रकाशित सूची में कई मतदाताओं के नाम काट दिये गए हैं। ऐसे मामलों में नाम काटने का आधार भी सूची में प्रकाशित किया जाए।

ज्ञापन में मांग की गई है कि सभी विस्थापित बस्तियों के मतदाताओं को राज्य चुनाव आयोग द्वारा उनके मतदान केन्द्रों की जानकारी देने की व्यवस्था विशेष रूप से की जाए। पार्टी की ओर से मांग की गई है कि स्थानीय निकायों के मतदान केन्द्रों की सूची अविलंब प्रकाशित की जाए। मतदान केन्द्रों की घोषणा के साथ ही बीएलओ के नाम भी घोषित किये जाएं। दोनों प्रक्रियाओं के बाद ही मतदाता सूचियों का प्रारंभिक प्रकाशन कर उन्हें बूथ केन्द्र पर प्रदर्शित किया जाए, उसके बाद ही दावे-आपत्तियां बुलाकर अंतिम प्रकाशन किया जाए।

हटाए गए नाम समायोजित किए जाएं

पार्टी द्वारा दिये गए ज्ञापन में कहा गया है कि 152 भोपाल दक्षिण पश्चिम विधानसभा की प्रकाशित मतदाता सूची में सभी बूथों में 46189 मतदाताओं के नाम जानबूझकर षडयंत्रपूर्वक विलुप्त किए गए हैं, जो कि मतदाताओं के मूल अधिकारों का हनन है एवं बहुत ही गंभीर अनियमितता है। नाम काटने का उचित कारण भी नहीं बताया जा रहा है। प्रतिनिधिमंडल ने निर्वाचन आयुक्त से 152 भोपाल दक्षिण पश्चिम विधानसभा के सभी बूथों से काटे गए नामों में से उपयुक्त मतदाताओं के नामों को सूची में समायोजित करवाने की मांग की।

पार्टी के प्रतिनिधिमंडल में वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी, प्रदेश मंत्री राहुल कोठारी, पूर्व सांसद आलोक संजर, प्रदेश सह मीडिया प्रभारी नरेन्द्र शिवाजी पटेल, मध्यप्रदेश कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष शैलेन्द्र शर्मा, खेल प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक श्रवण मिश्रा एवं आईटी विभाग के

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close