भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि। क्राइम ब्रांच ने एयरपोर्ट रोड स्थित एक पॉश कॉलोनी में चल रहे हाईटेक सेक्स रैकेट का पर्दाफाश किया है। गिरोह सरगना वॉट्सएप पर ग्राहक को युवतियों के फोटो भेजता था। सौदा पटने पर ग्राहक को लाने और छोड़ने के लिए लग्जरी कार का इस्तेमाल किया जाता था। पुलिस ने मौके से छह लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें उज्बेकिस्तान की एक युवती सहित चार महिलाएं, गिरोह सरगना और एक ग्राहक जो एसबीआई का मैनेजर है।

एएसपी क्राइम निश्चल झारिया के मुताबिक मुखबिर की सूचना पर इंद्र विहार कॉलोनी स्थित मकान नंबर सी-106 पर छापा मारा गया। वहां अलग-अलग कमरों में चार युवतियां मिलीं। उनमें से एक उज्बेकिस्तान, दो नेपाल की व एक कोलकाता की है। इस दौरान सेक्स रैकेट चलाने वाले साजिद हुसैन खान पिता सलीमउद्दीन (27) और ग्राहक रामकिशोर मीना (38) निवासी मकान नंबर-38 राजेंद्र नगर निशांत विहार कॉलोनी जिला सतना को गिरफ्तार किया गया। रामकिशोर सतना में भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा का मैनेजर है।

टूरिस्ट वीजा पर आई दिल्ली, रात रुकने के 25 हजार

उज्बेकिस्तान की कॉलगर्ल टूरिस्ट वीजा पर दिल्ली आई थी। दिल्ली में वह मालवीय नगर स्थित कॉलोनी में किराए से रहती है। अजय नाम का युवक उसकी दलाली कर रहा था। उसे भोपाल में साजिद ने डेढ़ लाख रुपए के पैकेज पर 15 दिन के लिए बुलाया था। पुलिस पूछताछ में पता चला कि वह दिन में एक बार के दस हजार व एक रात रुकने के 25 हजार रुपए लेती थी। नेपाली युवतियों के देह व्यापार के रेट कम थे।

ग्राहकों के लिए लग्जरी कार मुहैया कराता था

गिरोह सरगना साजिद हुसैन ने ग्राहकों को उनके बताई जगह से अड्डे तक लाने व वापस छोड़ने के लिए स्कोडा कार की सर्विस दे रखी थी। मौके पर मिले मैनेजर रामकिशोर मीना को एमपी नगर से कार से इंद्रविहार कॉलोनी पहुंचाया गया था।

साजिद की पत्नी भी करती है देह व्यापार

डीएसपी क्राइम सलीम खान के मुताबिक मौके पर मिली युवतियों में एक साजिद की पत्नी है। वह बंगाल की रहने वाली है। पति के कहने पर वह भी देहव्यापार करती है। साजिद मूलत: चड़ीपुरा थाना ढोलाहार जिला साउथ चौबीस परगना पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। पुलिस पूछताछ में सरगना साजिद ने बताया कि वह दो साल पहले तक वह मुंबई में कपड़े की कटिंग का काम करता था। तब वह एक युवक के संपर्क में आया। उसके साथ दो साल पहले भोपाल आया था। उसका दोस्त तो भोपाल से चला गया, लेकिन उसने देह व्यापार का धंधा यहां जमा लिया।

हर माह नई कॉलगर्ल: अड्डे पर कालगर्ल हर महीने बदल दी जाती थी। युवतियों को दिल्ली या अन्य शहरों से अलग-अलग पैकेज पर बुलाया जाता था। ग्राहकों को वाट्सएप पर पहले कालगर्ल के फोटो भेजे जाते थे। जब ग्राहक संबंधित युवती को पसंद करता था,तो उसके रेट तय किए जाते थे।

10 दिन पहले किराए पर लिया था मकान : इंद्र विहार कॉलोनी का मकान कोहेफिजा में रहने वाले एमएस खान का है। यह मकान अमित नाम के दलाल ने साजिद को 11 हजार रुपए महीने में दिलवाया था। इसके पहले साजिद इसी कॉलोनी में एक दूसरे मकान में रह रहा था और वहां से धंधा चला रहा था। पुलिस ने मकान मालिक व दलाल को भी पूछताछ के लिए बुलाया है।

फ्लैट में लग्जरी सुविधा : जिस मकान में देह व्यापार का पर्दाफाश किया गया, उसमें कॉलगर्ल के साथ ग्राहकों को के लिए भी लग्जरी सुविधा दी जा रही थी। हर कॉलगर्ल के लिए अलग कमरा था। विदेशी युवती फ्लाइट से आती-जाती थी। डेढ़ लाख के पैकेज के अलावा उसके लिए रहना, खाना सहित सारी सुविधाएं मुफ्त में मिलती थी। उसके आने-जाने का खर्च भी साजिद को देना पड़ता था।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket