भोपाल (नवदुनिया प्रतिनधि)। राजधानी की कोलार पुलिस ने एक हजार लोगों से करीब सौ करोड़ से ज्यादा की धोखाधड़ी कर फरार हुए आरोपित बिल्डर सुमित खनेजा को रविवार को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित पर दस हजार रुपये का इनाम घोषित था। आरोपित को कोर्ट में पेश्ा किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया। सोमवार को इस मामले में एक बार फिर सुनवाई होगी।

कोलार थाना प्रभारी सीके पटेल के मुताबिक एसवीएस बिल्डकान प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मालिक अमित खनेजा, सुमित खनेजा और सीईओ एसके अरोरा निवासी कम्युनिटी सेंटर ईस्ट आफ कैलाश नई दिल्ली ने वर्ष 2010 में चीचली कोलार के पास 23 एकड़ जमीन खरीदी थी। इस पर ग्रेट इंडिया पैलेस शापिंग माल एवं यूनिहोम्स नाम से प्रोजेक्ट लांच किया था। यूनिहोम्स भोपाल वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष लव राजपाल ने बताया कि कंपनी ने इसमें दुकान, फ्लेट खरीदने वाले करीब एक हजार लोगांे से बुकिंग कराकर करीब सौ करोड़ रुपये जमा करा लिए थे। आरोपितों ने पांच सौ अपार्टमेंट बनाने का झांसा दिया था। लोगों को दुकान और फ्लैट नहीं मिले तो पुलिस से श्ािकायत की। पुलिस एफआइआर दर्ज कर आरोपित की तलाश कर रही थी। आरोपित करीब आठ साल से काम बंद कर फरार हैं। आरोपितों पर दस-दस हजार का इनाम घोषित है। इनमें से फिलहाल सुमित खनेजा (57) की गिरफ्तारी दिल्ली से की गई है। कोलार पुलिस ने उसे कोर्ट मंे पेश किया, जहां से जेल भेज दिया गया। इस मामले मंे अभी दो आरोपितों अमित खनेजा और एसके अरोरा की गिरफ्तारी होना बाकी है। यह दोनों अभी फरार हैं।

पुलिस आयुक्त ने ट्वीट कर दी गिरफ्तारी की सूचना: पुलिस आयुक्त प्रणाली में यह पहला मौका है, जब किसी पुलिस आयुक्त ने ट्वीट कर आरोपित सुमित खनेजा की गिरफ्तारी की जानकारी सार्वजनिक की। जबकि पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी को दबाकर रखा था।

पजेशन के लिए 11 साल से भटक रहे लोग

यूनिहोम्स सोसायटी के अध्यक्ष एसएस यादव ने बताया कि इस प्रोजेक्ट में निवेश करने वाले लोग पिछले 11 साल से प्रशासन, पुलिस एवं रेरा कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। जब घर नहीं मिले तो आरोपितों के आफिस में जाकर देखा तो सब गायब हो चुके थे। आरोपित की गिरफ्तारी की जानकारी लगने के बाद बड़ी संख्या में लोग की भीड़ कोर्ट पहुंचे गए थे। सुरक्षा के लिहाज से पुलिस को तैनात किया गया था।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local