भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपाल रेलवे स्टेशन पर दो पहिया और चार पहिया वाहन पार्किंग को रेल विभाग और सुरक्षित करेगा। दोनों ही पार्किंग में सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ाई जाएगी। ऑफिसर पार्किंग में अलग से सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। रेलकर्मी आलोक त्रिपाठी के वाहन को असामाजिक तत्वों द्वारा नुकसान पहुंचाने की घटना के बाद रेलवे ने यह कदम उठाया है।

भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक और प्लेटफॉर्म 06 की तरह दोपहिया और चार पहिया पार्किंग है। प्लेटफार्म छह की तरफ दोनों पार्किंग आपस में जुड़ी है। जबकि प्लेटफार्म 01 की तरफ दोपहिया और चार पहिया पार्किंग अलग-अलग है। इसी तरफ अफसरों की वाहन पार्किंग भी है, जिसमें खड़े एक चार पहिया वाहन को शनिवार को असामाजिक तत्वों ने नुकसान पहुंचाया था। इस घटना को लेकर रेल मंडल में अधिकारियों व कर्मचारियों ने आक्रोश जताया था। इसके बाद रेलवे ने स्टेशन पर मौजूद पार्किंग स्थलों को और सुरक्षित करने के निर्देश दिए हैं। तीनों पार्किंग में प्रकाश व्यवस्था बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। जहां सीसीटीवी कैमरे नहीं है वहां सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए कहां है। यह भी कहा है कि यात्रियों के लिए बनाई गई पार्किंग में 24 घंटे बूम बैरियर व्यवस्था के चालू रखा जाए।

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से कम लगता है भोपाल रेलवे स्टेशन पर पार्किंग शुल्क

रानी कमलापति रेलवे स्टेशन की तुलना में भोपाल रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को पार्किंग शुल्क कम लगता है। रानी कमलापति स्‍टेशन पर पहले एक घंटे में दो पहिया वाहन के 15 रुपए और चार पहिया वाहन के 20 रुपए चुकाने पड़ते हैं। एक घंटा बीतने के बाद प्रति 2 घंटे के हिसाब से दोपहिया के 20 रुपए और चार पहिया वाहन के 40 रूपये देने पड़ते हैं। वही भोपाल रेलवे स्टेशन पर इसकी तुलना में बहुत ही कम पार्किंग शुल्क है।

भोपाल से ज्यादा रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर वाहनों की सुरक्षा

भोपाल रेलवे स्टेशन की तुलना में रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के वाहन पार्किंग में ज्यादा सुरक्षित है। यहां जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। बूम बैरियर की व्यवस्था भी है। यात्रियों को पार्किंग रसीद ऑटोमेटिक सिस्टम के तहत दी जाती है जिसमें तारीख और समय में गड़बड़ी नहीं होती है। इस तरह पार्किंग शुल्क वसूलने में विवाद की कोई स्थिति नहीं बनती है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close