भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। भगवान झूलेलाल का अवतरण दिवस चैतीचांद आज मनाया जा रहा है। इस अवसर पर बैरागढ़ सहित देश भर में सिंधी समाज घर पर ही पूजा-अर्चना करेगा। भगवान झूलेलाल के वंशज साईं मनीष लाल के आह्वान पर आज दोपहर ठीक 12 बजे घरों में ऑनलाइन उत्सव मनाया जाएगा। कोरोना संकट समाप्त करने के लिए भगवान झूलेलाल से विशेष प्रार्थना की जाएगी।

साईं मनीषलाल ने सभी श्रद्धालुओं से कहा है कि वैदिक मंत्रोच्चार के साथ विधि-विधान से पूजन करें। महामारी से निजात के लिए इष्टदेव से विशेष प्रार्थना की जाएगी। कोरोना संकट के कारण लगातार दूसरे साल चैतीचांद पर कोई भी सावर्जनिक कार्यक्रम नहीं हो रहा है। सिंधु समाज भवन में चुनिंदा पदाधिकारियों की मौजूदगी में बहिराणा पूजन किया जाएगा।

समाज के महासचिव भरत आसवानी व हरीश मेहरचंदानी के अनुसार पूजन के बाद प्रसाद वितरण किया जाएगा। पूज्य सिंधी पंचायत ने सभी नागरिकों से आग्रह किया है कि चैतीचांद पर घरों में दीप प्रज्ज्वलित कर सुख, शांति और बीमारी समाप्त होने की प्रार्थना करें। पंचायत के मुख्य सलाहकार हीरो ज्ञानचंदानी, मधु चांदवानी, परसराम आसनानी, नंद दादलानी एवं प्रेम पठानी ने सभी को झूलेलाल अवतरण दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

मेला निरस्त होने से निराशा का माहौल : कोरोना संक्रमण को देखते हुए झूलेलाल मंदिर ट्रस्ट ने मेला निरस्त कर दिया है। पिछले 50 साल से झूलेलाल मंदिर में चैतीचांद पर मुंडन एवं जनेऊ संस्कार होते हैं। मेला निरस्त होने से लोग निराश हैं। एच वार्ड स्थित मंदिर में आज ज्योति प्रज्ज्वलित होगी। प्रसाद वितरण होगा। आम लोगों को मंदिर में आने की अनुमति नहीं होगी।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags