भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। बैरसिया थाना इलाके में 18 जनवरी को एक विवाहित महिला ने फांसी लगा ली थी। पुलिस जांच में सामने आया कि कि महिला की सात साल पहले शादी हुई थी। उसने दो बच्चों को जन्म दिया था, लेकिन खून की कमी के कारण दोनों बच्चों की मौत हो गई थी। इस वजह से महिला उदास रहने लगी थी। उधर बच्चों की मौत के लिए बहू को जिम्मेदार ठहराते हुए सास, ससुर और देवर लगातार ताने देते थे। इस वजह से उसने खुदकुशी कर ली। हालांकि पति ने कभी भी पत्नी से कुछ नहीं कहा। जांच के बाद पुलिस ने देवर और सास, ससुर के खिलाफ खुदकुशी के लिए उकसाने का केस दर्ज कर लिया है।

बैरसिया थाना पुलिस के मुताबिक संजू पत्नी बलवीर सिंह ठाकुर (26) ग्राम दुजियाई में रहती थी। बलवीर सिंह किसानी करता है। 18 जनवरी को सुबह छह बजे बलवीर ने संजूबाई को कमरे में फांसी पर लटके देखा तो घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मर्ग काम कर मामले की जांच शुरू की। जांच के दौरान संजू के मायका पक्ष के लोगों के बयान दर्ज किए गए। इसमें बताया गया कि संजू की शादी को सात साल हो गए थे। इस दौरान वह दो बार मां भी बनी, लेकिन खून की कमी होने के कारण दोनों बच्चों की मौत हो गई। बच्चों के जीवित नहीं रहने से संजू बहुत दुखी रहने लगी थी। हालांकि पति बलवीर ने उस पर कभी लांछन नहीं लगाया, लेकिन देवर जगदीश, सास उमेदीबाई और ससुर मालम सिंह ठाकुर बच्चों की मौत का जिम्मेदार बहू संजूबाई को ठहराते हुए आए दिन ताना मारते थे। इससे वह काफी आहत हो जाती थी। संभवत: इस वजह से उसने खुदकुशी जैसा कदम उठा लिया। जांच के बाद पुलिस ने तीनों आरोपितों के खिलाफ खुदकुशी के लिए उकसाने का केस दर्ज कर लिया है।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags