भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। वर्तमान में मध्यप्रदेश को प्रभावित करने वाला कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं है। हवा का रुख भी उत्तरी बना हुआ है। इस वजह से रात में िंठठुरन बरकरार है। दिन में भी सर्द हवाओं के कारण सिहरन बनी हुई है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक रविवार को एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में प्रवेश करने की संभावना है। इसके असर से सोमवार से बादल आने से रात का तापमान बढ़ने के आसार है। उधर शनिवार को सिवनी, नौगांव, ग्वालियर में तीव्र शीतल दिन रहा। शाजापुर, इंदौर, खंडवा, भोपाल, गुना, टीकमगढ़, उज्जैन, सागर एवं खजुराहो में शीतल दिन रहा। सबसे कम छह डिग्री सेल्सियस तापमान गुना एवं नौगांव में दर्ज किया गया।

मौसम विज्ञान केंद्र के मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि शनिवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 20.1 डिग्रीसे. दर्ज किया गया। जो सामान्य से चार डिग्रीसे. कम रहा। न्यूनतम तापमान 9.7 डिग्रीसे. रिकार्ड किया। यह सामान्य से एक डिग्रीसे.कम रहा। यह शुक्रवार के न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्रीसे. की तुलना में 0.5 डिग्रीसे. अधिक रहा। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अशफाक खान ने बताया कि रविवार को एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत में प्रवेश करेगा। हालांकि इसका प्रभाव ग्वालियर, चंबल, संभागों तक की सीमित रहने के आसार हैं। वातावरण में कुछ नमी आने से सोमवार से बादल छाने लगेंगे। इससे रात के तापमान में कुछ बढ़ोतरी होने लगेगी। 18 जनवरी को भी एक तीव्र आवृति वाले पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में प्रवेश करने से 19-20 जनवरी से मौसम का मिजाज बिगड़ेगा। इस दौरान कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें भी पड़ने की संभावना है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local