भोपाल (राज्य ब्यूरो)। स्व-सहायता समूहों की महिलाओं (दीदियों) ने ग्रामीण मध्य प्रदेश की जिंदगी बदल दी। इसलिए मैं उनकी जिंदगी बदलना चाहता हूं। दीदियों के उत्साह को देखकर लगता है कि उनके भरोसे ही मैं मध्य प्रदेश बदल दूंगा। आज वे किसी मदद की मोहताज नहीं हैं। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही। वे मुख्यमंत्री आवास में शुक्रवार को 'स्व-सहायता समूहों के ऋण वितरण व संवाद" कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि समूहों की सफलता, हम गरीब नहीं रहेंगे इस प्रण का परिणाम है। हमारा उद्देश्य है कि समूह की महिलाएं घर की जिम्मेदारी के साथ हर माह 10 हजार रुपये कमाएं। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि केंद्र-राज्य सरकार की योजनाओं को बेहतर ढंग से लागू कराने का काम करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष समूहों के लिए 1500 करोड़ रुपये का बैंक लिंकेज उपलब्ध कराया था। इस वर्ष तीन हजार करोड़ रुपये का लक्ष्य है। दीदियां अपने उत्पाद को जेम पोर्टल पर अवश्य पंजीकृत कराएं, ताकि उत्पादों की मांग दूसरे देशों से भी आए। लोकल को वोकल बनाना हमारा लक्ष्य है। सरकार ब्रांडिंग में सहायता करेगी। पंचायत चुनाव में समूह की करीब 17 हजार महिलाएं निर्वाचित हुई हैं। यह बदलाव एक क्रांति है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक विकासखंड में लोक अधिकार केंद्र स्थापित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने फूलों की वर्षा कर दीदियों को स्वागत और कन्या पूजन किया। दीदियों ने नौ हजार राखियां भेंट की और बांधी भी।

200 करोड़ रुपये का ऋण बांटा

मुख्यमंत्री ने दो सौ करोड़ रुपये का ऋण बांटते हुए रायसेन, भोपाल समूहों को प्रतीक स्वरूप छह-छह लाख रुपये के चेक वितरित किए। उत्कृष्ट कार्य के लिए निजी बैंकों के अधिकारियों को सम्मानित किया।

दीदियों ने साझा किए अनुभव

शहडोल के बुढ़ार स्व-सहायता समूह की जिला पंचायत सदस्य बनी गुड्डी दीदी, मंडला में सागर संकुल संगठन द्वारा संचालित लोक अधिकार केंद्र की प्रभारी बसंती मरावी और राजगढ़-ब्यावरा के लसुड़िया की पोषण सखी बीना दांगी ने अपने अनुभवों को साझा किया। मुख्यमंत्री ने दीदियों से वर्चुअल संवाद भी किया।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा ...

- अब केवल दो प्रतिशत ब्याज पर समूह की दीदियों को ऋण मिलेगा।

- समय पर ऋण चुकाने की स्थिति में वे अधिक ऋण की पात्र होंगी।

- दीदियों को पंचायतों के संचालन और विकास कार्यों की गुणवत्ता पर भी नजर रखना है।

- नशामुक्ति अभियान, बधाों की शिक्षा की निरंतरता और कोविड टीकाकरण के प्रति भी सजग रहना है।

- दीदियां सुनिश्चित करें कि कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उनके क्षेत्र के हर पात्र व्यक्ति को मिले।

- 'हर घर तिरंगा" अभियान में उत्साहपूर्वक भाग लें।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close