भोपाल/ गुना, नवदुनिया प्रतिनिधि। नेहरू और गांधी परिवार का दिग्विजय सिंह पर विशेष स्नेह रहा है। यही वजह है कि उन्होंने भी पूरा जीवन कांग्रेस को समर्पित कर दिया। यह दूसरा मौका है, जब गुना जिले के छोटे कस्बे राघौगढ़ का बेटा (दिग्विजय सिंह) पहले मप्र का मुख्यमंत्री और अब देश की सबसे पुरानी लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए चुनाव लड़ रहा है। दिग्विजय सिंह अध्यक्ष चुने जाते हैं, तो निश्चित ही उनका अनुभव, अनुशासन और नेतृत्व क्षमता कांग्रेस को मजबूती प्रदान करेगी।

यह कहना है गुना जिले की राघौगढ़ विधानसभा से कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह का। उन्होंने नवदुनिया से विशेष चर्चा में कहा कि यह बड़े ही हर्ष का विषय है कि उनके पिता दिग्विजय सिंह कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव में शनिवार को नामांकन पत्र दाखिल कर रहे हैं। इसके लिए पूरा परिवार दिल्ली पहुंच रहा है। मेरे काका व चांचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह भी भोपाल से दिल्ली पहुंच रहे हैं, ताकि नामांकन पत्र दाखिले के समय उनके साथ रह सकें। जयवर्धन सिंह ने कहा कि 2017 में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने नर्मदा बचाओ यात्रा निकाली थी, तो 2018 में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी थी। वर्तमान में कांग्रेस ने की कश्मीर से कन्याकुमारी तक 3500 किमी की भारत जोड़ो पैदल यात्रा निकाली जा रही है, जिसके चेयरमेन भी दिग्विजय सिंह ही हैं। इससे तस्वीर साफ है कि 2024 में केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनेगी और राहुल गांधी प्रधानमंत्री होंगे। इसी तरह मध्यप्रदेश में होने वाले 2023 के विधानसभा चुनाव में भी कमल नाथ और दिग्विजय सिंह की अहम भूमिका होगी और कांग्रेस की सरकार बनेगी।

राजनीति से पहले जनता की सेवा करो

पूर्व मंत्री व राघौगढ़ विधायक जयवर्धन सिंह से पूछा गया कि एक पिता की नजर से दिग्विजय सिंह को कैसे देखते हैं। इस पर उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह जमीन से जुड़े नेता रहे हैं। वे अच्छी तरह जानते हैं कि अनुशासन और जनता की सेवा के बिना राजनीति संभव नहीं है। यही वजह है कि जब मुझे राजनीति में आना था, तो उन्होंने कहा कि पहले जनता की सेवा करो, फिर चुनाव लड़ने की सोचना। इसके बाद मैंने पूरी विधानसभा में पैदल यात्रा निकाली और लोगों से मिला, उनके बीच रहा और सेवाकार्य जारी है। आज बड़ी खुशी है कि उनके पिता देश की सबसे पुरानी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव लड़ रहे हैं। इससे राघौगढ़ और जिलेवासियों के साथ प्रदेश में खुशी का माहौल है।

भाई लक्ष्मण सिंह बोले-आठ अक्टूबर तक प्रतीक्षा करो

इधर, दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि आठ अक्टूबर तक परिणाम की प्रतीक्षा करें। वैसे तो लक्ष्मण सिंह बिना लाग-लपेट के अपनी बात रखते हैं लेकिन दिग्विजय सिंह के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने को लेकर संभलकर बोल रहे हैं।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close