Coronavirus Madhya Pradesh News: शशिकांत तिवारी, भोपाल । कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों की हालत गंभीर हो रही है। कोरोेना से ज्यादा संक्रमित जिलों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, विदिशा आदि में 20 से 50 फीसद तक मरीज आइसीयू में हैं। 20 नवंबर की स्थिति में सरकारी या अनुबंधित अस्पतालों में भोपाल में 564 में 126, इंदौर में 696 में 141, जबलपुर में 83 में 45, ग्वालियर में 173 में 50 मरीज आइसीयू में थे।

कोविड-19 को लेकर राज्य सरकार के सलाहकार व हमीदिया के छाती व श्वास रोग विभाग के एचओडी डॉ. लोकेन्द्र दवे ने कहा कि पिछली बार करीब 40 फीसद मरीज लक्षण वाले थे, लेकिन नई लहर में 70 फीसद लक्षण वाले हैं। इसकी बड़ी वजह यह कि कांटेक्ट ट्रेसिंग नहीं होने के कारण बिना लक्षण वाले मरीजोंं की पहचान ही नहीं हो पा रही है। सिर्फ लक्षण वाले मरीज ही अस्पताल पहुंच रहे हैं। मरीजों के गंभीर होने की भी यही वजह है।

दूसरी बात यह कि ठंड में अस्थमा, क्रॉनिक आब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसआर्डर (सीओपीडी), एलर्जी समेत फेफड़े की कई बीमारियों के मरीज 30 फीसद तक बढ़ जाते हैं। इन मरीजों को कोरोना होने पर वह गंभीर हो रहे हैं।

25-26 नवंबर तक और बढ़ सकते हैं मरीज

छाती व श्वास रोग विशेषज्ञ डॉ. पराग शर्मा ने कहा कि दीपावली व धनतेरस के दौरान बाजारों में भीड़ में जो लोग संक्रमित हुए होंगे, उन पर बीमारी का ठीक से असर 25-26 नवंबर तक दिखाई देगा। डॉ. शर्मा ने बताया कि इस बार कई मरीज निमोनिया के साथ इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। जांच में कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि मरीज गंभीर हालत में आ रहे हैं, लेकिन यह राहत की बात है कि अभी मौत की दर पिछली लहर जैसी नहीं है।

इसलिए जरूरी है कांटेक्ट ट्रेसिंग

प्रदेश में अभी तक के आंकड़ों में सामने आया है कि कोरोना से संक्रमित एक व्यक्ति करीब 10 लोगों को संक्रमित करता है। इनमें ज्यादातर लोग उसके पहले संपर्क वाले होते हैं। मार्च में प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दस्तक के साथ ही मरीज के बताए अनुसार उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन करता था।

घर-घर जाकर पहले संपर्क में आए लोगों की जांच कराई जा रही थी। दो महीने पहले यह व्यवस्था प्रदेश भर में बंद कर दी गई। अब मरीजों की जिम्मेदारी है कि वह अपने संपर्क में आए लोगों को जांच के लिए फीवर क्लीनिक भेजें, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। इस वजह से मरीजों की फौरन पहचान नहीं हो पा रही है।

इनका कहना है

हमने फीवर क्लीनिक की संख्या बढ़ा दी है। मरीजों के घर के नजदीक यह सुविधा उपलब्ध है। हर जगह जांच हो रही है। लोगों में जागरूकता भी आ गई है, वे खुद जाकर जांच करा रहे हैं, इसलिए कांटेक्ट ट्रेसिंग बंद कर दी गई थी। अब लोगों को भी सतर्क रहना चाहिए और जो मरीजों के संपर्क में आए हैं, उन्हें खुद फीवर क्लीनिक जाकर जांच करवाना चाहिए।

डॉ. प्रभुराम चौधरी, स्वास्थ्य मंत्री, मध्य प्रदेश

जिला--सरकारी या अनुबंधित अस्पताल में भर्ती कुल मरीज--सरकारी या अनुबंधित अस्पताल केआइसीयू में--निजी अस्पताल में भर्ती कुल मरीज--निजी अस्पताल केआइसीयू में--वेंटिलेटर पर कुल मरीज

भोपाल--564--126--308--110--31

इंदौर--696--141--699--133--50

जबलपुर--83--45--177--63--15

ग्वालियर--173--50--138--49--4

विदिशा--46--16--00--00--00

(नोट- इनमें कुछ संदिग्ध मरीज भी शामिल हैं)

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस