Corona Vaccination:भोपाल ( नवदुनिया प्रतिनिधि)। भोपाल में 3 लाख 91 हजार लोगों ने कोरोना से बचाव के टीका की दूसरी डोज नहीं लगवाई है। कोविन पोर्टल से जानकारी निकाल कर जब टीका लगवाने के लिए आशा कार्यकर्ताओं ने फोन किया तो जवाब मिला कि हम दूसरी डोज लगवा चुके हैं। दूसरी डोज लगवाने के लिए एक आशा कार्यकर्ता हर दिन 50 लोगों को फोन कर रही हैं। उनमें से 15 से 20 लोगों का जवाब यही होता है। अब स्वास्थ्य विभाग के अफसर भी गफलत में है कि यह कैसे माने कि इन्हें दूसरी डोज लग चुकी है।

भोपाल के जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ उपेंद्र दुबे ने बताया कि जिन लोगों ने अभी दूसरी डोज नहीं लगवाई है उनमें से करीब 50 हजार ऐसे हैं जिनकी दूसरी डोज लगाने की अवधि निकल चुकी है। बता दें कि कोवैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने की अवधि 4 से 6 हफ्ते की है, जबकि कोविसील्ड 12 से 16 हफ्ते के 20 लगवानी होती है। प्रदेश भर में दूसरी डोज नहीं लगवाने वालों का आंकड़ा 70 लाख से ऊपर पहुंच गया है। सरकार ने अब 18 अक्टूबर से ऐसे लोगों को खोज कर टीका लगाने की विशेष तैयारी की है। सभी जिलों में टीका नहीं लगवाने वालों की पहचान के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम सर्वे कर रही है।

वर्जन

कोरोना के मरीज कम हो गए हैं तो लोगों को लगने लगा है कि कोरोना चला गया है, जबकि ऐसा नहीं है। कोरोना संक्रमण से बचाव सिर्फ दूसरी डोज लगवाने पर ही हो सकता है। सिर्फ पहली डोज लगवाने का कोई मतलब नहीं है। बीच में ऐसी खबरें भी आई थी कि पहली डोज से काफी सुरक्षा मिल जाती है, लेकिन यह बात सही नहीं है।

डॉ सरमन सिंह निदेशक, एम्स भोपाल

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local