भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। भोपाल रेलवे स्टेशन और निशातपुरा रेलवे अस्पताल समेत अन्य दफ्तरों में आफलाइन रेल पास नहीं बनाए जा रहे हैं। ऐसा तब हो रहा है जब रेलवे बोर्ड खुद 29 नवंबर को कह चुका है कि आफलाइन रेलपास जारी किए जाएं। ये पास रेलवे के पेंशनर और दिव्यांग रेलकर्मियों को जारी किए जाने हैं।

मजे की बात यह है कि भोपाल रेलवे स्टेशन और निशातपुरा रेलवे अस्पताल में पेंशनरों से कहा जा रहा है कि उनके पास लिखित में कोई आया ही नहीं है जिसके तहत आफलाइन रेलपास जारी किए जा सकें। रेलवे के ये वहीं दफ्तर हैं जिन्होंने रेलवे बोर्ड द्वारा पूर्व में आफलाइन रेलपास जारी नहीं करने के आदेश का तत्काल प्रभाव से पालन किया था। तब डीआरएम कार्यालय से किसी पत्र का इंतजार नहीं किया था। अब वहीं रेलवे बोर्ड ने फिर से कह दिया है कि रेलवे के पेंशनर और दिव्यांग रेलकर्मियों को आफलाइन रेल पास जारी किए जाएं तो ऐसे दफ्तर में बैठे अधिकारी व बाबू पेंशनरों से लिखित आदेश मांग रहे हैं।

डीआरएम कार्यालय में मिलने लगे आफलाइन रेल पास

पेंशनर और दिव्यांग याात्रियों को डीआरएम कार्यालय से आफलाइन रेल पास मिलने लगे हैं लेकिन इसका फायदा वे ही पेंशनर ले रहे हैं जो डीआरएम कार्यालय से सेवानिवृत्त हुए हैं। बाकी के रेलकर्मियों को डीआरएम कार्यालय से रेल पास नहीं मिल रहे हैं। ऐसे पेंशनरों को सेवानिवृत्त वाले कार्यालयों से रेलपास लेने के नियम हैं जहां कि आफलाइन रेलपास नहीं दिए जा रहे हैं।

रेलवे ने किया था रेलपास जारी करने के नियमों में बदलाव

दरअसल, रेलवे अपने कर्मचारी और पेंशनरों को रेलपास जारी करता है। एक वर्ष पूर्व तक रेलपास आफलाइन जारी किए जाते थे मतलब जो अधिकारी, कर्मचारी रेलवे के जिस दफ्तर में सेवा दे रहे हैं और जिस दफ्तर से सेवानिवृत्त हुए हैं उन्हें वहीं से आफलाइन व्यवस्था के तहत रेल पास जारी किए जाते थे। इन पासों के आधार पर संबंधित रेल यात्रा करते थे। इसका कोई शुल्क नहीं लगता था। रेलवे बोर्ड ने इस व्यवस्था में बदलाव करते हुए रेलवे के अधिकारी, कर्मचारियों और पेंशनरों के दस्तावेज आनलाइन कर दिए थे और रेल पास भी आनलाइन जारी करने के निर्देश दिए थे। तब से आफलाइन रेलपास मिलने बंद हो गए थे। इस व्यवस्था को लेकर पेंशनरों में नाराजगी थी। उनका कहना था कि वे आनलाइन माध्यमों को ज्यादा नहीं जानते। आनलाइन साधनों का उपयोग भी नहीं करते इसलिए उन्हें आनलाइन ई—रेलपास जारी कराने में दिक्कतें आ रही है। रेलवे बोर्ड ने पेंशनरों की इस परेशानी को समझा और पुन: आफलाइन रेलपास जारी करने के निर्देश दिए हैं। यह सुविधा केवल पेंशनर व दिव्यांग रेल यात्रियों के लिए ही लागू है। रेल अधिकारी, कर्मचारियों को अभी भी आनलाइन व्यवस्था के तहत ही ई—रेल पास जारी कराने पड़ रहे हैं। इस संबंध में रेल अधिकारियों का कहना है कि जिन दफ्तरों में आफलाइन रेलपास जारी नहीं किए जा रहे हैं, उन्हें निर्देश देंगे। किसी को भी परेशान नहीं होने दिया जाएगा।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close