भोपाल। अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया से निपटने के लिए पुलिस महानिदेशक विजय कुमार सिंह ने बुधवार को प्रदेश के सभी मैदानी अधिकारियों एसपी-डीआईजी और आईजी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर सजगता व सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के लिए फैसले के हर पहलू को ध्यान में रखकर अभी से तैयारियां करने को कहा। पीएचक्यू द्वारा भी संवेदनशील जिलों व उनके इलाकों पर नजर रखी जा रही है।

पीएचक्यू में आयोजित वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग में विशेष महानिदेशक एसएएफ विजय यादव, एडीजी इंटेलीजेंस डॉ. एसडब्ल्यू नकवी, एडीजी रेल अरुणा मोहन राव, एडीजी प्रबंध डी. श्रीनिवास राव, एडीजी दूरसंचार उपेंद्र जैन, आईजी इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर, आईजी रेलवे जयदीप प्रसाद, डीआईजी कानून व्यवस्था मनोज शर्मा भी मौजूद थे।

डॉ. नकवी ने बताया है कि इस मामले को लेकर 40 बिंदुओं की एडवाइजरी जारी की गई है। सोशल मीडिया पर अपलोड व शेयर की जाने वाली सांप्रदायिक पोस्ट पर नजर रखने को कहा गया है। गलत-भ्रामक समाचारों व अफवाहों से बचने के लिए मीडिया से सहयोग लेने के बारे में सुझाव दिया गया है।

पुलिस महानिदेशक सिंह ने मैदानी पुलिस अधिकारियों को ड्रोन कैमरों से वीडियो रिकॉर्डिंग कराने तथा आमजन में यह प्रचारित करने को कहा है कि वे सभी कैमरे की निगरानी में हैं। पुलिस व्यवस्था इस प्रकार से लगाई जाए, जिससे हर जगह पुलिस की प्रभावी मौजूदगी दिखाई दे। सोशल मीडिया की प्रभावी निगरानी रखी जाए और अफवाहों पर अंकुश रखने के लिए सूचना तंत्र विकसित करें।

शांति समितियों को सक्रिय करने, सामाजिक व राजनीतिक संगठनों से सहयोग मांगकर सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के काम करें। नगर व ग्राम रक्षा समितियों के पुनर्गठन करें। वीडियो कॉन्फेंस में जिलों के एसपी को सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों को चि-त कर वहां विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। संवेदनशील, सार्वजनिक व धार्मिक स्थलों सहित अन्य भीड़ वाले स्थानों को सीसीटीवी कैमरे के दायरे में लाने को कहा।

Posted By: Hemant Upadhyay