भाेपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी में कुत्तों का आतंक दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। ताजा मामला कोलार के बांसखेड़ी इलाके का है। यहां एक श्वान ने सात वर्षीय बच्ची सुहानी की आंख को नोच लिया। इससे बच्ची की आंख से पुतली बाहर आ गई। गंभीर हालत में उसे हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज किया जा रहा है। डाक्‍टरों के मुताबिक बच्‍ची की आंख की सर्जरी की गई है। उसकी आखं सुरक्षित है। सूचना मिलने के बाद चिकित्सा शिक्षामंत्री विश्वास सारंग और महापौर मालती राय भी बच्ची को देखने के लिए रात 10 बजे पहुंचे।

पड़ोसियों ने बताया कि मोहल्ले में कुत्तों का आतंक है। इसको लेकर रहवासी नगर निगम के अधिकारियों, कालसेंटर और सीएम हेल्पलाइन में शिकायत कर चुके हैं, लेकिन इनको पकड़ने के लिए निगम का अमला नहीं आता है। तीन दिन पहले इसी कुत्ते ने पीड़िता सुहानी की बड़ी बहन सोहना को भी काटा था।

बता दें कि बीते दो जनवरी 2022 को बागसेवनिया स्थित अंजलि विहार में आवारा श्वानों ने चार वर्षीय बच्ची को नोंच डाला था। इसका वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जिला प्रशासन, नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर दोबारा ऐसी घटना की पुनरावृत्ति नहीं होने की समझाइश दी थी। इसके बावजूद बीते आठ माह में कुत्तों ने दो दर्जन से अधिक बच्चों पर हमले किए हैं।

घर के सामने खेल रही थी बच्ची

बताया जा रहा है कि घटना बुधवार दोपहर 12 बजे की है। बच्ची घर के सामने खेल रही थी। इस दौरान सड़क में घूमने वाला एक कुत्ता झपटा और बच्ची की दाहिनी आंख नोच ली, जिससे बच्ची की आंख की पलक बाहर लटकने लगी। जानकारी मिलते ही स्वजन बच्ची को लेकर निजी अस्पताल पहुंचे जहां से उसे हमीदिया अस्पताल रेफर कर दिया गया। बच्ची का नाम सुहानी चौहान है, वह कक्षा दूसरी में पढ़ती है। उसके माता-पिता मजदूर हैं।

शहर में वर्ष 2022 में कुत्ते के काटने की घटनाएं

- 15 जून को लालघाटी स्थित मिलिट्री कैंप क्षेत्र में अवारा श्वानों ने सात वर्षीय बच्चे को नोच कर मार डाला था।

- 27 फरवरी को अशोका गार्डन स्थित वर्धमान ग्रीन पार्क कालोनी में छह वर्षीय बच्ची को श्वानों ने काट लिया लिया था।

- 23 जनवरी को अवधपुरी क्षेत्र में सात वर्षीय हिमांशी रघुवंशी को श्वानों ने नोच डाला था।

- दो जनवरी को बागसेवनिया क्षेत्र में चार साल की बच्ची को कुत्तों ने नोच डाला था। एक राहगीर ने उसकी जान बचाई थी।

शहर में कुत्तों को पकड़ने के लिए अलग दस्ते का गठन किया गया है। इनके द्वारा निगम के काल सेंटर में आने वाली शिकायतों का निराकरण किया जाता है। बांसखेड़ी में मासूम बच्ची को कुत्तों द्वारा नोचने की जानकारी मिली है। शहर में अभियान चलाकर कुत्तों को रहवासी इलाकों से पकड़ा जाएगा।

- केवीएस चौधरी कोलसानी, आयुक्त नगर निगम

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close