भोपाल (राज्य ब्यूरो)। शहरी क्षेत्रों में बिजली की ट्रिपिंग (बार-बार गुल होने) पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने नाराजगी जताई है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि इसे रोकने या न्यूनतम स्तर पर लाने के लिए कार्ययोजना बनाएं। तीनों विद्युत वितरण कंपनियों व विभाग स्तर पर ट्रिपिंग एवं मरम्मत कार्यों की समीक्षा के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करें। वे बुधवार को मंत्रालय में समीक्षा कर रहे थे। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि लाइनों के मरम्मत एवं ट्रिपिंग की मासिक समीक्षा का उत्तरदायित्व प्रबंध संचालक और मुख्य अभियंता का है।

बड़े शहरों में फ्यूज आफ काल व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था रखें। उन्होंने 33/11 केवी उप केंद्रों में लगे उपकरणों को चालू करने, अर्थिंग ठीक करने, बड़े शहरों में 11 केवी लाइन की लंबाई को कम करने एवं पर्याप्त मात्रा में एबी स्विच लगाने के निर्देश दिए। साथ ही मरम्मत कार्य करने वाले कर्मचारियों को सुरक्षा उपकरण का उपयोग करने की हिदायत दें।

आंगनबाड़ी केंद्रों में लगाए जाएंगे रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम

भोपाल (राज्य ब्यूरो)। मध्य प्रदेश में निर्माणाधीन और भविष्य में बनाए जाने वाले आंगनबाड़ी केंद्रों के भवन अब वर्षा का पानी सहेजेंगे। पोषण-2 अभियान के तहत भारत सरकार ने आंगनबाड़ी केंद्रों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने के निर्देश दिए हैं। इसे लेकर संचालक महिला एवं बाल विकास ने अनुसूचित जाति विकास विभाग के आयुक्त को पत्र लिखा है।

इनसे कहा गया है कि अनुसूचित जाति विभाग 'प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम" योजना के तहत 108 आंगनबाड़ी केंद्र भवन बना रहा है। इनमें रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाएं। केंद्र और राज्य सरकार ऊर्जा व पानी बचाने पर ज्ध्यान दे रही हैं। इसके तहत सभी सरकारी भवनों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने के निर्देश पहले से हैं। अब प्रदेश के अंचलों में निर्माणाधीन आंगनबाड़ी भवनों में भी लगेगा। आंगनबाड़ी केंद्रों के भविष्य में बनाए जाने वाले भवनों की कार्ययोजना में भी इसे शामिल किया जाएगा।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close