भोपाल (स्टेट ब्यूरो)। जिन किसानों को सरकार ने कर्जमाफी के प्रमाण पत्र वितरित कर दिए हैं, उन पर कर्ज की वसूली का दबाव बनाया जा रहा है। बैंकों द्वारा संपत्ति की कुर्की करने के नोटिस जारी किए जा रहे हैं। प्रश्नकाल में विधायक नरोत्तम मिश्रा के प्रश्न पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि 17 जिलों के नोटिस की प्रति उनके पास मौजूद हैं।

कृषि मंत्री सचिन यादव ने इसके जवाब में कहा कि भाजपा किसानों को गुमराह कर रही है, नोटिस की बात को मंत्री ने खारिज कर दिया। इस बीच प्रश्नकाल का समय खत्म हो जाने से चर्चा अधूरी रह गई पर भाजपा विधायक दल ने सही जवाब न देने का आरोप लगाकर सदन से बहिर्गमन कर दिया।

भार्गव ने दतिया के किसान लखन सिंह यादव और अजब सिंह के कुर्की नोटिस को सदन में पढ़कर भी सुनाया और कहा कि किसानों को डराया जा रहा है कि आपके खिलाफ धारा 420 का मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने कर्जमाफी की बात अपने वचन पत्र में कही थी, फिर भी किसानों को छला जा रहा है।

भार्गव ने कहा कि कर्जमाफी न होने से किसान आत्महत्या कर रहे हैं। उन्होंने कमल पटेल के आठ जुलाई के प्रश्न का हवाला देकर कहा कि कर्जमाफी होने के बाद नोटिस मिलने के कारण कांग्रेस राज में 71 किसानों ने आतमहत्या कर ली है।

नोटिस सहकारी बैंक का होगा तो अफसर को निलंबित कर दूंगा - गोविंद सिंह

इधर, भार्गव के आरोप पर सहकारिता मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कहीं भी कुर्की के ऐसे नोटिस जारी नहीं किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कहीं भी ऐसा नोटिस सहकारी बैंक द्वारा जारी किया गया होगा तो वे तत्काल जिम्मेदार अफसर को निलंबित कर देंगे। वहीं कृषि मंत्री ने कहा कि भाजपा को कर्जमाफी से पीड़ा हो रही है।

Hariyali Amawasya: हरियाली अमावस्या पर बन रहा ये दिव्य संयोग, ऐसे मिलेगा शुभ फल

Mahakal temple Ujjain: श्रावण का पहला रविवार, भक्तों को इन द्वारों से मिलेगा प्रवेश

मानसून फिर हुआ सक्रिय, अब भी प्रदेश में समान्य से 10 फीसदी कम बारिश