बृजेंद्र वर्मा, भोपाल। छह महीने से आम आदमी पर महंगाई की मार चौतरफा पड़ रही है। जुलाई से अब तक धीरे-धीरे बढ़ रही महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। पेट्रोल-डीजल, सब्जी-भाजी, रसोई गैस, खाद्य तेल, रेलवे किराया, मोबाइल रिचार्ज, घी, आटा, केबल सहित अन्य दैनिक जरूरी सामग्री के दाम बढ़ गए हैं। चुपके से बढ़ी महंगाई का कारण विशेषज्ञ अंतरराष्ट्रीय बाजार में हो रही उठापटक बता रहे हैं। भोपाल किराना एसोसिएशन के अध्यक्ष कुंदन दास भूरानी ने बताया कि सोयाबीन का तेल 20 रुपए प्रतिकिलो तक बढ़ा है। पाम ऑइल मलेशिया से आता है। एक्साइज ड्यूटी अधिक होने से पाम तेल कम मात्रा में आ पा रहा है। इससे तेल के दाम पिछले 15 दिनों से बढ़ गए हैं। वहीं भारी बारिश से सोयाबीन की पैदावार कम होना भी तेल महंगा होने का प्रमुख कारण हैं।

मप्र पेट्रोल-डीजल डीलर एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह बताते हैं कि अंतराष्ट्रीय उठापटक के कारण कच्चे तेल के रेट बढ़ने से पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़े हैं। इधर बिट्टन मार्केट हाट बाजार समिति के अध्यक्ष हरीश खटीक ने बताया कि भारी बारिश से प्याज सड़ने से आवक कम हुई। जिससे प्याज महंगी हुई। लहसून की पैदावर कम होने से महंगा रहा। अक्टूबर तक बारिश होने से हरी सब्जियों की पैदावर भी कम रही। इससे सब्जियां महंगी हो गईं। पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने से लोडिंग चार्ज भी बढ़ा, जिससे सब्जियां महंगी हो गईं।

1.सब्जी-भाजी : जुलाई से प्याज के दाम बढ़ने शुरू हुए। 25 से 30 रुपए प्रतिकिलो बिकने वाली प्याज 120 किलो बिकी। वहीं लहसुन 300 रुपए तक प्रतिकिलो मिल रहा है। आलू, टमाटर सहित हरी सब्जियों की कीमत डेढ़ गुनी हो गई है। लहसुन 200 प्रतिशत व सब्जियां 50 प्रतिशत तक महंगी हो गई हैं।

2. पेट्रोल-डीजल : अगस्त में रोजाना औसतन 78.9 रुपए पेट्रोल रहा। वहीं डीजल 69.53 बिका। वहीं अब पेट्रोल 84.9 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है और डीजल 75.43 प्रति लीटर हो गया है। 12 प्रतिशत तक दाम बढ़ गए हैं।

3. रसोई गैस : जुलाई-अगस्त में रसोई गैस सिलेंडर 581 से 643 रुपए में मिलता था। अब रसोई गैस 721.50 रुपए में प्रति सिलेंडर हो गया है। 10 प्रतिशत तक रसोई गैस महंगी हुई है।

4. सांची दूध : जुलाई-अगस्त में सांची दूध 50 रुपए प्रति लीटर था। दो रुपए का इजाफा कर 52 रुपए प्रति लीटर किया गया। अब 54 रुपए लीटर हो गया है। इससे दूध से बनने वाले खाद्य सामग्री भी महंगी होने से इनकार नहीं किया जा सकता।

5. केबल : डीटीएच व केबल का 250 रुपए के रिचार्ज में महीने भर के लिए जरूरी चैनल्स देखने को मिल जाते हैं। छह महीने में केबल व डीटीएच के पैकेज 520 रुपए तक हो गए हैं। हालांकि जितने चैनल देखने हैं, उस हिसाब से पैसे देखकर भी प्लान होता है।

6. मोबाइल रीचार्ज : छह महीने पहले 119 से 149 रुपए का अनलिमिटेड कॉलिंग का मोबाइल रिचार्ज हो जाता था। अब 149 से 199 का हो रहा है। तीन माह का रिचार्ज 399 से 599 रुपए तक हो रहा है। 30 से 50 रुपए तक की बढ़ोत्तरी हुई है।

7. रेल किराया : एक जनवरी से रेलवे ने यात्री किराया बढ़ा दिया है। पहले भोपाल से दिल्ली का किराया 12.24 रुपए बढ़ गया है। पहले भोपाल से नई दिल्ली तक 595 रुपए प्रति यात्री लगते थे, अब 607.4 रुपए हो गया है। किराए में करीब 2 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो गई है।

8. आटा : गेहूं का आटा पिछले छह महीने में पांच रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से बढ़ा है। 28 रुपए प्रति किलो मिलने वाला आटा 33 से 35 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिल रहा है। 10 से 17 प्रतिशत तक आटा महंगा हुआ।

9. लोहा : लोहे की दाम भी बढ़ गए। सरिया के साथ इंगट व स्क्रैप में चार से पांच रुपए का इजाफा हो गया। सरिया 38 रुपए प्रतिकिलो था, जो अब 42 रुपए हो गया हैं वहीं इंगट 28 से बढ़ कर 32 व स्क्रैप 20 से 24 रुपए प्रतिकिलो हो गया है। इससे बर्तन से लेकर घर बनाना महंगा हो गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket