अतीक अहमद, मंडीदीप। छब्बीस सो पचपन में हुई नीलाम ट्रालियों को व्यापारी ने लेने से मना किया तो किसानों ने हाइवे पर हंगामा करते हुए ट्रैफिक जाम कर दिया। पुलिस ने किसानों से बात कर जाम खुलवा दिया। आधा घंटे बाद किसानों ने दोबारा हाइवे जाम कर प्रशासन के सामने मुसीबत खड़ी कर दी। मौके पर तहसीलदार व भारसाधक अधिकारी निकिता तिवारी, थाना प्रभारी अपने दलबल सहित जाम हटवाने का प्रायास करते रहे। आखिरकार एक घंटे बाद किसान माने। तब जाकर जाम खुला और मंडी में नीलामी की प्रक्रिया पुन: शुरू हुई।

दरअसल किसान नीलामी को लेकर परेशान हैं। वे आरोप लगा रहे कि मंडी कर्मचारियों, व्यापारियों और मिलरों की मिलीभगत से धान की औने-पौने दामों पर नीलाम की जा रही है। लेकिन किसानों की सुनवाई नहीं हो रही। मंडी सचिव का किसानों से बातचीत का लहजा भी अन्नदाताओं को भड़काने का काम करता रहा। हालांकि थाना प्रभारी ने उन्हें समझाया, लेकिन मामला बिगड़ता गया और किसानो ने एकमत होकर राष्‍ट्रीय राजमार्ग 12 को जाम कर दिया। इस कारण भोपाल की और जाने वाला मार्ग पर दोनों ओर दो से तीन किलोमीटर लंबा जाम लग गया। किसान नेता नरेंद्र चौकसे ने अन्नदाताओं की बात सुनने के बाद मोजूद प्रशासनिक अधीकारियों से आग्रह किया कि जिन किसानों की ट्रालियां नीलाम हो गईं, उस व्यापारी ने बोली लगाई, उसे किसान का माल तुलवाने का आदेश दे, अन्यथा उक्त व्यापारी का लाइसेंस कैंसिल किया जाए। चौकसे की इस बात का सभी ने समर्थन किया। किसान मौसम को लेकर चिंतित हैं। मिलर और व्यापारी इसी का लाभ उठाकर किसानों की धान कम दाम पर खरीद रहे हैं, जिससे किसान भड़क गए।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local