भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि), MP Weather Update। उत्‍तर से आ रही सर्द हवाओं के कारण राजधानी भोपाल सहित पूरे प्रदेश में न्यूनतम तापमान में तेजी से गिरावट होने लगी है। मौसम विज्ञानियों ने ग्वालियर, चंबल, सागर, रीवा संभाग के जिलों में कहीं-कहीं पाला पड़ने की आशंका जताई है। हालांकि दो दिन बाद एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में दाखिल होने के बाद हवा का रुख बदलने से एक बार फिर न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी होने लगेगी।

इस वर्ष उत्तर भारत में एक के बाद एक लगातार पश्चिमी विक्षोभ पहुंचने से पहाड़ों पर जबरदस्त बर्फबारी तो हुई, लेकिन हवाओं का रुख उत्तरी नहीं हो सका था। इसके चलते दिसंबर के अंतिम सप्ताह से लेकर 10 जनवरी तक न्यूनतम तापमान में कमी दर्ज नहीं हो सकी थी। रविवार के बाद मौसम साफ होने के बाद हवाओं का रुख उत्तरी हुआ। इसके बाद उत्तर भारत की तरफ से 10 से 12 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से आ रही सर्द हवाओं से राजधानी सहित पूरे मध्यप्रदेश में ठिठुरन बढ़ने लगी है।

वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं है। इससे वातावरण में नमी कम होने लगी है। इससे मौसम लगभग शुष्क हो गया है। लगातार सर्द हवाएं चलने से तापमान में गिरावट दर्ज होने लगी है। विशेषकर उत्तरी मध्यप्रदेश में कड़ाके की ठंड शुरू हो गई है। शुक्ला के मुताबिक बुधवार-गुरुवार को ग्वालियर, चंबल, सागर, रीवा संभाग के जिलों में शीतलहर चलने के साथ ही कहीं-कहीं फसलों पर पाला पड़ने की भी आशंका बढ़ गई है। दो दिन बाद एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में दाखिल होने की संभावना है। इसके बाद हवा का रुख बदलने से एक बार फिर न्यूनतम तापमान में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होने लगेगी।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस