भोपाल। नईदुनिया प्रतिनिधि। राजधानी की ईओडब्ल्यु विशेष अदालत ने भ्रष्टाचार ,धोखाधड़ी मामले में आरोपित पूर्व एडीजी भोपाल को 5 साल कैद और 8 लाख 75 हजार रूपए जुर्माने की सजा सुनाई है। निर्णय के बाद झारखंड रांची के सर्कुलर रोड स्थित हरिओम टॉवर अपॉटमेंट के फ्लैट नंबर एस-102 निवासी पूर्व एडीजी राजेन्द्र चतुर्वेदी को जेल भेज दिया गया।

यहसला गुरूवार को विशेष न्यायाधीश संजीव कुमार पाण्डेय ने सुनाया। अभियोजन अनुसार घटना 1 जनवरी से 26 मई 2003 के बीच केन्द्रीय जेल भोपाल कार्यालय में हुई थी। इस दौरान पूर्व एडीजी जेल राजेन्द्र चतुर्वेदी ने अपने पद और स्र्तबे का उपयोग करते हुए 16 बेरोजगारों को जेल विभाग में प्रहरी व लिपिक के पद पर नियुक्ति कराने का झांसा दिया था। इसके लिए आरोपित एडीजी ने सभी 16 बेरोजगारों से नौकरी दिलाने के नाम पर करीब 18 लाख स्र्पए की राशि वसूल कर ली थी।

नौकरी के नाम पर स्र्पए दिए जाने के बाद भी जब आरोपित एडीजी ने उनकी नौकरी जेल विभाग में नहीं लगवाई तो सभी धोखाधड़ी के शिकार 16 लोगों ने संयुक्त रूप से इसकी लिखित शिकायत सीआईडी पुलिस मुख्यालय में की थी। सीआईडी ने शिकायत प्राप्त होने के बाद इसकी जांच ईओडब्ल्यू को सौंप दी।

ईओडब्ल्यु ने मामले की जांच के बाद आरोपित एडीजी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत धोखाधड़ी और साक्ष्य छुपाने का अपराध कायम कर मामले का चालान विशेष अदालत में पेश किया था। अदालत में मामले की सुनवाई के दौरान 73 वर्षीय आरोपित पूर्व एडीजी के खिलाफ अपराध प्रमाणित पाए जाने पर उक्त सजा का फैसला सुनाया गया। सजा सुनाए जाने के बाद चतुर्वेदी को जेल भेज दिया गया।

Posted By: Hemant Upadhyay

fantasy cricket
fantasy cricket